पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • मानसिक बदलाव से बंद होगी कन्या भ्रूण हत्या : डॉ. रंजना

मानसिक बदलाव से बंद होगी कन्या भ्रूण हत्या : डॉ. रंजना

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
करनाल . स्वयंसिद्धा सोसाइटी की अध्यक्ष डाॅ. रंजना शर्मा ने कहा कि कन्या भ्रूण हत्या समाज के लिए घातक सिद्ध हो रही है। 77 प्रतशित लोग पुरुष प्रधान समाज, दहेज प्रथा, नारी शिक्षा की कमी और महिलाओं में असुरक्षा के भाव को कन्या भ्रूण हत्या का मुख्य कारण मानती हैं। लेकिन तमाम प्रयास तब तक सफल नहीं होंगे जब तक लोगों की मानसिकता में बदलाव नहीं आएगा।
इसलिए तमाम प्रयासों के साथ उनकी संस्था का मूल उद्देश्य लोगों की मानसिकता में बदलाव लाना है। निकट भविष्य में जल्द इस विषय पर इंटरनेशनल लेवल की वर्कशॉप आयोजित की जाएगी।

करनाल क्लब में आयोजित पत्रकारवार्ता में डॉ. शर्मा ने कहा कि उनकी संस्था ने कन्या भ्रूण हत्या पर विभिन्न शहरों में सर्वे कराया है। करनाल, पानीपत, शाहाबाद कुरुक्षेत्र के 21,056 लोगों ने सर्वे में हिस्सा लिया, जिनमें 12,464 महिलाएं और 8592 की पुरुषाें की भागीदारी रही। सर्वे स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी, अस्पतालों और ग्रामीण शहरी रिहायशी क्षेत्रों में कराया। सर्वे के मुताबिक अगर पुरुषों महिलाओं की राय को देखें तो पुरुष दहेज प्रथा तथा महिलाएं पुरुष प्रधान समाज को कन्या भ्रूण हत्या का एक बड़ा कारण मानते हैं।

सरकारीसहायता देने का कोई असर नहीं :डाॅ. शर्मा ने कहा कि 83.63 प्रतिशत महिलाएं 46.1 पुरुष मानते हैं कि लड़की पैदा होने पर सरकार द्वारा दी जाने वाली सहायता राशि से भ्रूण हत्या में कोई कमी नहीं आती है। 49.5 प्रतिशत पुरुष और 59.27 प्रतिशत महिलाएं भ्रूण हत्या रोकने के लिए मानसिक में बदलाव को आवश्यक समझते हैं। सख्त कानून और लड़के लड़की की समान परवरिश को भी लगभग 32 प्रतिशत लोग इसका उपाय मानते हैं।

संस्था पदाधिकारी अंजू शर्मा, सुचेता गुप्ता ने कहा कि सर्वे में 84 प्रतिशत पुरुष और 70 प्रतिशत महिलाएं मानती हैं कि घटते लिंगानुपात से भविष्य में सामाजिक असंतुलन और यौन अपराधों में बढ़ोतरी होगी। इस सर्वे में अधिकांश लोगों ने माना कि भ्रूण हत्या रोकने में समाज और माता की अहम भूमिका होती है। सचिव अंजू धवन ने कहा कि सरकार द्वारा लगातार प्रयास किए जाने पर भी वांछित नतीजे नहीं मिल रहे हैं। इसलिए सोसाइटी ने लोगों की मानसिकता जानने के लिए यह सर्वे कराया।