पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • पिनगवां का नाम पिंगलगढ़ रखने की मांग

पिनगवां का नाम पिंगलगढ़ रखने की मांग

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मेवातके ऐतिहासिक कस्बे पिनगवां के नाम को बदलकर पिंगलगढ़ करने की मांग क्षेत्रवासियों ने की है। इसके लिए शीघ्र ही पंचायत से एक प्रस्ताव पास कराकर उसे उपायुक्त के माध्यम से मुख्यमंत्री को भेजा जाएगा। कस्बे के लोगों को उम्मीद है कि सरकार उनकी मांग को अवश्य पूरा करेगी।

जिला मेवात का कस्बा पिनगवां अपने आप में ऐतिहासिक धरोहर समेटे हुए हैं। पिनगवां कस्बा प्राचीन काल में पिंगलगढ़ का नाम से विख्यात था। जिसके सबूत आज भी मौजूद हैं। पिंगलगढ़ के तालों का अस्तित्व सतयुग से चला रहा है। पिंगलगढ़ जो आज नूह (मेवात) जिले में कस्बा पिनगवां के नाम से प्रसिद्ध है। यहां कभी चार ताल (तालाब) हुआ करते थे। ये थे भंवर ताल, नूर ताल, राजुक्तल, हाथी ताल। इसके अलावा पुराना टूटा हुआ दरवाजा, गुमटी बाबड़ी प्राणी हवेलियों से बाहर जाने वाली सुरंगों आदि के अवशेष भी आज मौजूद हैं। इतिहास बताता है कि नरवरगढ़ के नल राजा ने पिंगलगढ़ में 14 वर्ष का वनवास कटा था। नल राजा और रानी दमयंती के किस्सों में आज भी पिंगलगढ़ का नाम लिया जाता है। अरावली की पहाड़ियों ने तीन तरफ से पिंगलगढ़ को घेरे हुआ है।

पिनगवां के बुजुर्ग र| लाल गौतम, प्रयागचंद गौतम, स्वामी राम सिंगला, प्यारे लाल पटेल, दुलीचंद आदि का कहना कि अब वो समय गया, जब पिनगवां को भी उसका खोया हुआ नाम वापस दिलवाया जाए।

पिनगवां. पुरानाटूटा हुआ दरवाजा।

^सरकार जब शहरों गांवों को उनके ऐतिहासिक नाम वापस रख रही है तो तो पिनगवां को भी उसका असली नाम वापस मिलना चाहिए। -ताऊ स्वामी राम, ग्रामीण

^भाजपा सरकार जब से अस्तित्व में आई है, तब से लेकर अब कई गांवों और शहरों के नाम बदले जा चुके है। इसलिए कस्बे के लोग भी चाहते है कि अब पिनगवां का नाम बदलकर पिंगलगढ़ रखा जाए। -रतनलाल गौतम, ग्रामीण

नाम बदलने की मांग

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें