पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • 8 दिन में फिर टूट गई वाटर लाइन

8 दिन में फिर टूट गई वाटर लाइन

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कस्बाबादशाहपुर की कई कॉलोनियों में पेयजल सप्लाई फिर बुधवार को प्रभावित हो गई। पानी नहीं पहुंचने और कई मोहल्लों में गंदा पानी सप्लाई होने की समस्या एक सप्ताह में दूसरी बार हुई है। गत बुधवार को भी इस पेयजल लाइन में लीकेज के कारण बादशाहपुर के कई मोहल्लों में पेयजल आपूर्ति प्रभावित रही थी। नगर निगम के अधिकारियों को फिर सूचित किया तो गुरुवार सुबह गुड़गांव-सोहना रोड की दोबारा खुदाई कर लाइन को जोड़ा गया। हालांकि अब इस गड्ढे को ढका नहीं गया है, ताकि दोबारा लीकेज होने पर इसे दोबारा नहीं खोदना पड़े। सड़क के बीच किए गए गड्ढे से दुर्घटनाओं का अंदेशा बना हुआ है। निगम के कर्मचारियों ने गड्ढे से बचाव के लिए कोई इंतजाम नहीं किया है।

बुधवार को कस्बा में सुबह की सप्लाई कई घरों में नहीं पहुंची, तो कई घरों में कीचड़ वाला पानी सप्लाई हुआ। वहीं पाइप लाइन जोड़ने के लिए सड़क के बीचों बीच जेसीबी से करीब 15 फुट गहरा दस फुट चौड़ा गड्ढा खोदा गया। इससे कई घंटे तक आवागमन भी प्रभावित रहा। हालांकि नगर निगम के अधिकारियों ने फिलहाल इस गड्ढे को खुदा छोड़ दिया है, ताकि लीकेज का पता चल सके। इससे दुर्घटनाओं का अंदेशा भी बना है। वहीं इससे पहले लीकेज के लिए खोदे गए गड्ढे को मिट्टी डालकर ढक दिया गया था।

इन मोहल्लों में सप्लाई प्रभावित

मंगलवारसे अहीरवाड़ा, दरबारीपुर रोड, गांधी नगर, झीमरवाड़ा सहित कई मोहल्लों में गंदे पानी की सप्लाई हुई। कई जगह प्रेशर नहीं होने से पानी की सप्लाई नहीं पहुंची। बादशाहपुर के लोगों ने नगर निगम के अधिकारियों को इसकी शिकायत दी, जिस पर कार्रवाई करते हुए जेई देवेन्द्र ने गुड़गांव-सोहना रोड पर जेसीबी से खुदाई कराई। पता चला कि करीब 15 फुट गहराई पर लाइन टूटी है। इससे पहले भी गत बुधवार को इसी स्थान पर लाइन में लीकेज होने से कई मोहल्लों में पेयजल सप्लाई प्रभावित रही थी। सप्ताह में दूसरी बार समस्या होने से लोगों में निगम के अधिकारियों के खिलाफ रोष है।

क्या कहते हैं अधिकारी

नगरनिगम के एक्सईएन एनडी वशिष्ठ ने बताया कि लाइन 10 से 15 साल पुरानी है, जिससे लीकेज होने की बार बार समस्या रही है। गुरुवार सुबह लाइन जोड़ दी गई है। जल्द ही गड्ढे को भर दिया जाएगा।

गुड़गांव. टूटी हुई बादशाहपुर वाटर लाइन को ठीक करते कर्मचारी।