पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • कुपोषण से बचाने को चलाया जाएगा अभियान

कुपोषण से बचाने को चलाया जाएगा अभियान

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बच्चोंको कुपोषण की चपेट में आने से रोकने और उनका संपूर्ण विकास हो, इसके लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा एक माह तक अभियान चलाया जाएगा। यह अभियान 12 नवंबर से 11 दिसंबर तक अभियान चलेगा। इस दौरान पांच वर्ष से कम आयु के बच्चों को विटामिन का घोल पिलाने के अलावा घरों से नमक के सैंपल लेकर आयोडीन की जांच की जाएगी।

अभियान को प्रभावी ढंग से चलाने के लिए टीमें गठित कर दी गई। जिसमें एएनएम, आशा वर्कर आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को शामिल किया गया है।

विभाग का मानना है कि करीब 13 प्रतिशत आबादी पांच वर्ष से कम आयु के बच्चों की है। बच्चों का संपूर्ण विकास हो, इसके लिए बच्चों के स्वास्थ्य की जांच की जाएगी। जांच के बाद बच्चों को विटामिन का घोल, पेट के कीड़ों की दवा, आयरन फोलिक एसिड दिया जाएगा।

वहीं बच्चों को आयोडीन की मात्रा पर्याप्त मात्रा में मिल रही है अथवा नहीं, इसकी जांच करने के लिए विभाग की टीम नमक के सैंपल लेगी। विभाग द्वारा अभियान के अंतर्गत लोगों को आयोडीन युक्त नमक का प्रयोग करने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

आशावर्कर आंगनवाड़ी वर्करों को जोड़ा जाएगा अभियान से : विभागद्वारा अभियान प्रभावी ढंग से चलाया जाएगा। इसके लिए आंगनवाड़ी आशा वर्करों को अभियान के साथ जोड़ा जाएगा।

अभियान की अधिक से अधिक लोगों को जानकारी हो, इसके लिए गांव में जागरूकता अभियान भी चलाया जाएगा। विभाग का कहना है कि अभियान की सफलता के लिए जरूरी है कि प्रत्येक व्यक्ति को इसकी जानकारी हो। ताकि उनके बच्चें कुपोषण से बच सकें।

^12 नवंबर से अभियान की शुरूआत की जाएगी। विभाग द्वारा क्षेत्र के बच्चों की सूची भी तैयार की जा चुकी है। विभाग का प्रयास है कि अभियान के दौरान कोई भी बच्चा छूट जाए। इसके लिए सभी हेल्थ सेंटरों पर जांच का कार्य किया जाएगा। क्षेत्र में टीमें गठित कर दी गई हैं।\\\'\\\' डॉ.कर्मबीर ,एसएमओ, गोहाना।

राष्ट्रीय कैंसर दिवस पर सात नंवबर को सामान्य अस्पताल में निशुल्क कैंसर जांच शिविर का आयोजन किया जाएगा। इस दौरान मरीजों की जांच की जाएगी। जांच में यदि कोई व्यक्ति कैंसर की बीमारी से पीड़ित पाया गया तो उसका इलाज शुरू किया जाएगा। एसएमओ डॉ.कर्मबीर ने बताया कि कैंसर का प्रथम चरण में इलाज संभव है। अब कैंसर लाइलाज बीमारी नहीं रही। परंतु इसके लिए जरूरी है नियमित रूप से जांच कराई जाए। साथ ही समय रहते इसका इलाज किया जा सके।