--Advertisement--

महिला एवं बाल विकास की सोनीपत को जिम्मेदारी

खेल,सांस्कृतिक एवं शिक्षा तीनों में बेजोड़ सोनीपत अब केवल प्रदेश की बल्कि देश की राजधानी दिल्ली की महिलाओं एवं...

Dainik Bhaskar

Feb 16, 2015, 02:25 AM IST
महिला एवं बाल विकास की सोनीपत को जिम्मेदारी
खेल,सांस्कृतिक एवं शिक्षा तीनों में बेजोड़ सोनीपत अब केवल प्रदेश की बल्कि देश की राजधानी दिल्ली की महिलाओं एवं बच्चों के विकास का भी रोड मैप तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका में है। सोनीपत को यह सुअवसर इसलिए मिला है क्योंकि अपने जिले ने अब राजनीति क्षेत्र में भी अपना कद बढ़ा लिया है। तभी तो जहां सोनीपत की बहु कविता जैन लगातार दूसरी जीत के साथ हरियाणा सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्री पद संभाल रहीं हैं तो वहीं दिल्ली में आप को फिर सत्ता में पहुंचाने में अपना योगदान सुलतानपुर माजरा सीट जीतकर देने वाले संदीप कुमार को भी दिल्ली में इसी मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

कविता जैन| कविताजैन को राजनीति विरासत में मिली। उनके पिता सुरेंद्र जैन ने मंगल सेन के साथ भाजपा को काफी आगे बढ़ाया। इसके बाद शादी राजनीतिज्ञ राजीव जैन के साथ हुई जो हविपा के शासनकाल में चौधरी बंसीलाल के मीडिया सलाहकार थे। वर्ष 2004 में चूंकि राजीव जैन पर आय से अधिक संपति का मामला था, इसलिए वे चुनाव नहीं लड़ सके और कविता जैन को चुनाव लड़ने का मौका मिला। एमकॉम पूर्वार्ध में टॉप करने वाली कविता जैन ने मौका नहीं गंवाया और सचुनाव लड़ा तो जनता ने उन्हें विजयी बनाया। यह क्रम 2014 में भी जारी रहा और भाजपा सरकार बनने पर प्रदेश में उन्हें महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की जिम्मेदारी मिली।

संदीप कुमार | 34वर्षीय संदीप कुमार सुलतानपुर माजरा विधानसभा सीट से चुनाव जीत कर दिल्ली की विधान सभा में पहुंचे हैं। दिल्ली यूनिवर्सिटी से पढ़ाई कर चुके संदीप पेशे से वकील हैं। संदीप ने मेरठ के चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी से एलएलबी की डिग्री हासिल की है। संदीप कुमार 2013 में भी आम आदमी पार्टी से ही चुनावी मैदान में उतरे थे, लेकिन जीत नहीं सके थे। इस बार संदीप कुमार सबसे ज्यादा 56 फीसदी वोट मार्जिन के साथ जीतने वाले कैंडिडेट बने हैं। इस सीट पर 1998 से कांग्रेस का कब्जा था। वे मूल रूप से गोहाना में गांव सरगथल के रहने वाले हैं। संदीप की प्राथमिक शिक्षा गांव में ही हुई, जिसके बाद वे 1997 से दिल्ली में रहने लगे।

इन दोनो को सिर्फ मंत्रालय ऐसे ही नहीं मिले। सोनीपत में महिला सशक्तीकरण पर काम भी हुआ है। उत्तर भारत का एक मात्र खानपुर महिला विश्व विद्यालय सोनीपत जिले में ही है। तो वहीं भक्त फूल सिंह महिला मेडिकल कॉलेज के नाम से लेडी हार्डिंग्स के बाद दूसरा महिला मेडिकल कॉलेज भी यहीं सोनीपत में हैं। यह मेडिकल कॉलेज देश की आजादी के बाद पहला ऐसा कॉलेज है जिसमें सिर्फ छात्राओं को डॉक्टर बनाया जाएगा। यहां पढ़कर छात्राएं उंचा मुकाम हासिल कर रही हैं। यहां नई शिक्षा पद्धति का बढ़ावा दिया जा रहा है। यहां पर शिक्षा प्राप्त कर छात्राएं बुलंदियों को छू रही हैं। नए शौध कर रही हैं। वे महिला शकित के रूप में उभर कर आगे रही हैं

इन्होंने देश दुनिया में कमाया है सोनीपत जिले का नाम

शिक्षा: पिछलेसाल भारतीय प्रशासनिक सेवा की परीक्षा में सोनीपत से पांच विद्यार्थियों ने सफलता अर्जित की। एमडीयू की सेमेस्टर परीक्षा में टॉपर में सोनीपत निरंतर आगे। हाल ही में विवेक जैन ने न्यायिक सेवा में भी चयन हुआ।

खेल:एशियाईखेलों में स्वर्ण पदक जीतने वाली सीमा आंतिल देश की इकलौती एथलीट। बाल खिलाड़ी के रूप में हिमानी मोर ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जीते हैं खिताब। सौरभ शर्मा बैडमिंटन में देश का नंबर एक अंडर 19 खिलाड़ी है। हरियाणा महिला हॉकी टीम की कप्तान भारतीय टीम की सदस्य नेहा गोयल।

सांस्कृतिक:हरियाणाचुनाव आयोग की ब्रांड एंबेसडर एवं टीवी की चर्चित हस्ती मेघना मलिक हैं। वे भी सोनीपत से ही संबंध रखती हैं। हाल ही में एमटीवी रोडिज पर सोनीपत की ममता दहिया चुनी गई है।

महिला एवं बाल विकास की सोनीपत को जिम्मेदारी
X
महिला एवं बाल विकास की सोनीपत को जिम्मेदारी
महिला एवं बाल विकास की सोनीपत को जिम्मेदारी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..