पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • खाद्य सुरक्षा योजना के लाभपात्रों का डाटा होगा ऑनलाइन

खाद्य सुरक्षा योजना के लाभपात्रों का डाटा होगा ऑनलाइन

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
खाद्यसुरक्षायोजना के सभी बेनीफिशियरी (लाभपात्रों) का सारा डाटा ऑनलाइन किया जाएगा। गड़बड़ी रोकने के लिए सरकार ने यह कदम उठाया है। नेशनल इंफॉरमेशन सेंटर सारा डाटा कंप्यूटर में फीड करेगा। गड़बड़ी रोकने के लिए प्रदेश सरकार ने ऐसा फैसला लिया है।

केंद्र सरकार ने लोकसभा चुनाव से पहले देशभर में खाद्य सुरक्षा योजना की शुरुआत की थी। पिछले दस माह से लोग इसका फायदा ले रहे हैं, लेकिन अब भी वितरण में काफी गड़बड़ी है। डॉटा ऑनलाइन कर गड़बड़ी को रोका जाएगा। इसलिए केंद्र सरकार ने अब खाद्य सुरक्षा योजना का डाटा ऑनलाइन करने का निर्णय लिया है। इसके लिए जल्द ही काम शुरू हो जाएगा। नेशनल इंफॉरमेशन सेंटर के कर्मचारी खाद्य सुरक्षा योजना के सभी बेनीफिशियरी का डाटा एकत्रित कर ऑनलाइन करेंगे। डिपो होल्डर वितरण में भी गड़बड़ी करते हैं, लेकिन डाटा फीड होने के बाद यह गड़बड़ी भी रुकेगी।

एनआईसी में डाटा फीड होने के बाद इसे ऑनलाइन कर दिया जाएगा। इसके बाद यह डाटा सार्वजनिक हो जाएगा। कौन व्यक्ति क्या सूचना देकर योजना का लाभ ले रहा है यह सारी जानकारी दी जाएगी। जो भी व्यक्ति गलत सूचना देकर योजना का लाभ ले रहा है। शिकायत होने पर उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। कोई भी व्यक्ति जिला खाद्य एवं आपूर्ति विभाग में गलत सूचना की शिकायत कर सकता है।

जिला कैथलमें पांच लाख 70 हजार लोग योजना का फायदा उठा रहे हैं। इसके लिए एक लाख 56 हजार खाकी राशन कार्ड भी बनवाए गए हैं। सामान्य वर्ग के लोगों को प्रति व्यक्ति पांच किलोग्राम गेहूं दो रुपए प्रति किलोग्राम के हिसाब से दी जा रही है। बीपीएल एपीएल परिवारों को हर माह दो किलोग्राम दाल 20 रुपए किलोग्राम के हिसाब से दी जा रही है। जिले के 500 डिपो होल्डर राशन का वितरण कर रहे हैं।

सभी डिपो के बाहर होगा डाटा

प्रदेशका कोई भी व्यक्ति अपने क्षेत्र के डिपो में उपभोक्ताओं की जानकारी बिना पूछे प्राप्त कर सकता है। विभाग द्वारा सभी डिपोधारकों को डिपो के बाहर सभी उपभोक्ताओं की लिस्ट लगवाने के आदेश दिए गए हैं। ऑनलाइन दर्ज करने के बाद सभी पात्रों की जानकारी को हासिल करना आसान हो जाएगा।

सवालाख परिवार उठा रहे लाभ

जिलेमें इस योजना के कुल लाभ पात्र परिवारों की संख्या 1,28,979 है। इनमें 18,670 गुलाबी कार्ड (एएवाई) और 18,958 सीबीपीएल (सेंट्रल बिलो पावरटी लाइन) धारक हैं, जबकि एसबीपीएल