• Hindi News
  • Haryana
  • Kaithal
  • मूंदड़ी में ही बने महर्षि वाल्मीकि संस्कृत विश्वविद्यालय : रांझा
--Advertisement--

मूंदड़ी में ही बने महर्षि वाल्मीकि संस्कृत विश्वविद्यालय : रांझा

Kaithal News - नगरपरिषदकेपूर्व चेयरमैन सुरेंद्र रांझा एडवोकेट ने बताया कि मूंदड़ी गांव का संबंध रामायण काल से है। रामायण काल के...

Dainik Bhaskar

Jan 17, 2017, 02:25 AM IST
मूंदड़ी में ही बने महर्षि वाल्मीकि संस्कृत विश्वविद्यालय : रांझा
नगरपरिषदकेपूर्व चेयरमैन सुरेंद्र रांझा एडवोकेट ने बताया कि मूंदड़ी गांव का संबंध रामायण काल से है। रामायण काल के प्राचीन अवशेष भी यहां पर मिलते हैं। इसलिए महर्षि वाल्मीकि संस्कृत विश्वविद्यालय यहीं पर बनाना चाहिए। यहां जारी बयान में रांझा ने कहा कि कई बार यहां पर पुरातत्व विभाग की टीम आई। पुरातत्व विभाग के अधिकारियों को यहां पर काफी प्राचीन अवशेष मिले। विभाग के अधिकारियों का मानना है कि मूंदड़ी के आसपास काफी प्राचीन धरोहर दबी है। इतिहासकार गांव के बुजुर्ग भी यहां पर वाल्मीकि आश्रम का स्थान बताते हैं। यहां पर प्राचीन लव-कुश तीर्थ है। लव-कुश की शिक्षा-दीक्षा भी वाल्मीकि आश्रम में हुई है। इसके पुख्ता सबूत रामायण में मिलते हैं। इसी पवित्र स्थान पर महर्षि वाल्मीकि संस्कृत विश्वविद्यालय बनना चाहिए। भगवान वाल्मीकि संस्कृत के बहुत बड़े विद्वान थे। उन्होंने रामायण की रचना की। रामायण हिंदू धर्म का सबसे बड़ा ग्रंथ हैं। महर्षि वाल्मीकि ने पूरे विश्व को एक जीने का रास्ता दिखाया है।

X
मूंदड़ी में ही बने महर्षि वाल्मीकि संस्कृत विश्वविद्यालय : रांझा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..