पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • आदि अाम्बेडकर समाज ने मनाया वाल्मीकी विजय दिवस

आदि अाम्बेडकर समाज ने मनाया वाल्मीकी विजय दिवस

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नरवाना | आदिआम्बेडकर समाज द्वारा डूमरखां कला गांव में वाल्मिकी विजय दिवस बड़ी धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर पूरे वाल्मिकी समाज ने भगवान वाल्मिकी का पाठ किया और मिठाइयां बांटी गई।

प्रधान विनोद ने बताया कि श्रीराम द्वारा जो अहंकार था और अहंकार भी इस बात का कि उनसे उपर कोई योद्धा नहीं है। इसी घमंड में उन्होंने सारे राज्यों को जितने के लिए एक असमेग घोड़ा छोड़ा कि जो इस घोड़े को पकड़ेगा उसे उनके साथ युद्ध करना पड़ेगा। उन्होंने बताया कि तभी जंगल में छोटे-छोटे बच्चे घूम रहे थे घोड़े को जंगल में देखा और बच्चों ने घोड़े को पकड़ लिया। जिनका नाम महर्षि वाल्मिकी ने लव और कुश रखा था। इसके बाद लव-कुश ने राम की पूरी सेना के साथ युद्ध किया और उनकी पूरी सेना का मार गिराया था। जिससे सीता भी अपने आसुओं को रोक नहीं और भगवान वाल्मिकी से प्रार्थना की मेरी छवि पहले से एक दाग लगाया गया था और यह दूसरा दाग लग गया तभी भगवान वाल्मिकी ने सीता की दशा को देखकर अमृत वर्षा की और श्री राम की पूरी सेना का जीवित कर दिया अंहकारी राजा को माफ भी कर दिया।

इस मौके पर सुनील, जगबीर, संजय, विकास, अशोक, नरवीर, विक्रम, नरेश, सुरेन्द्र, सुनीत सतीश आदि लोग उपस्थित रहे।