पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • समाज को एक सूत्र में पिरोया था गुरुनानक ने : सुरेंद्र

समाज को एक सूत्र में पिरोया था गुरुनानक ने : सुरेंद्र

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नानक दुखिया सब संसार, सो सुखिया जिन्ह नाम आधार

गुरुद्वारा सिंह सभा लाडवा में लंगर

गुरुओं के दिखाए मार्ग पर चलें : बेदी

गुरुनानकदेवके प्रकाशोत्सव के उपलक्ष्य में गुरुवार को गुरुद्वारा बाउली साहिब की ओर से नगर कीर्तन निकाला गया। गुरुद्वारा साहिब में गुरुबाणी और शबद कीर्तन की गूंज के साथ पंज प्यारों की अगुवाई में नगर कीर्तन का शुभारंभ हुआ। नगर कीर्तन से पूर्व गुरुद्वारा साहिब के हेड ग्रंथी ज्ञानी काबल सिंह ने अरदास की।

अरदास के साथ फूलों से सजी पालकी में गुरु ग्रंथ साहिब के पावन स्वरुप सुशोभित थे। गुरु जी के दर्शनों के लिए संगत ने जो बोले सो निहाल, सत श्री अकाल के जयकारे लगाकर अपनी हाजरी दर्ज कराई। बीर खालसा दल के नौजवान युवकों ने पारंपरिक शस्त्रों से गतके के जौहर दिखाकर संगत को आश्चर्य चकित किया। नौजवानों के तलवारबाजी मुंह से आग निकालने जैसे करतब दिखाए। नगर कीर्तन मेन बाजार, सरस्वती तीर्थ, गुहला रोड, माडल टाउन, अनाज मंडी, अम्बाला रोड कैथल रोड से होता हुआ वापस गुरुद्वारा में संपन्न हुआ। इसके बाद गुरुद्वारा साहिब के परिसर में आतिशबाजी की गई।

विधायकसंधू ने किया स्वागत : इनेलोविधायक दल के उपनेता एवं विधायक जसविंद्र संधू ने नगर कीर्तन में शामिल संगत का स्वागत किया। संधू ने कहा कि गुरुनानक देव का प्रकाशोत्सव जात-पात धर्म से ऊपर उठकर आपसी भाईचारे प्रेम प्यार का संदेश देता है। इस मौके पर संत बाबा महिंद्र सिंह कार सेवा वाले, बलदेव वडैच, जगतार भिंडर, कर्ण सिंह ईश्हाक, विक्रम चक्रपाणी, कुलदीप मुलतानी, सुभाष भटेड़ी, सुरेश नैन, अशोक गुप्ता, टीटू शर्मा, जरनैल स्योंसर, महिंद्र कंथला, पार्षद महिंद्र सिंह, राजेश गर्ग, सतनाम संधू, गुरविंद्र खिल्लन, सतपाल रामगढिय़ा, बूटा भिंडर, राहुल खिल्लन, मुख्तयार सिंह, जसवंत सिंह, सतनाम सिंह, बहादुर सिंह, गुरिंद्रजीत नत, इंद्रजीत नत, जसपाल वड़ैच और लखबीर सिंह उपस्थित थे।

गुरुवार को गुरुद्वारा बाउली साहिब की ओर से नगर कीर्तन निकाला गया।

लाडवा| गुरुनानक देव के प्रकाशोत्सव के उपलक्ष्य में गुरुद्वारा सिंह सभा लाडवा की ओर से गुरुद्वारा में अटूट लंगर बरताया गया। जिसमें सिख संगत के साथ-साथ कस्बे के सैकड़ों लोगों ने प्रसाद ग्रहण किया। लंगर से पूर्व सुबह से ही गुरुद्वारे में सुबह से ही श्रद्धालुओं की माथा टेकने के लिए कतार लगी रही। इससे पहले