पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • मानव धर्म सम्मेलन में पहुंचे थे प्रभुपाद

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मानव धर्म सम्मेलन में पहुंचे थे प्रभुपाद

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
39 बरस पहले देखा था कृष्ण अर्जुन मंदिर का सपना

ब्रह्मसरोवर किनारे चाहते थे मंदिर

गोल्डन टेंपल की तर्ज पर था नक्शा

हालांकिब्रह्मसरोवर किनारे पुरुषोत्तमपुरा बाग में इस्कॉन को सात एकड़ जगह नहीं मिली। इसके बाद ज्योतिसर में छह एकड़ जगह 99 साल की लीज पर दी। इस्कॉन के कुरुक्षेत्र प्रभारी स्वामी साक्षी दास गोपाल के मुताबिक ज्योतिसर में जो जमीन मिली थी, उसमें से आधा हिस्सा मानव निर्मित झील में था। ऐसे में कृष्ण अर्जुन मंदिर का नक्शा झील को देखते हुए गोल्डन टेंपल की तर्ज पर तैयार किया। ज्योतिसर में पानी के बीच मंदिर बनना था। हालांकि अब मंदिर पिहोवा रोड पर बनने जा रहा है। यहां समतल जगह मिली है। ऐसे में पुराने नक्शे की जगह अब इस भव्य मंदिर का नया नक्शा तैयार कराया जा रहा है।

तब पांच करोड़ में बनना था मंदिर

स्वामीप्रभुपाद यहां एक भव्य कृष्ण अर्जुन मंदिर बनाना चाहते थे। सभ्रवाल के मुताबिक स्वामी प्रभुपाद ने पांच करोड़ रुपए मंदिर के लिए बजट तय किया था। तब पांच करोड़ बहुत बड़ी रकम थी। आज उसी मंदिर पर कम से कम 100 करोड़ रुपए खर्च आएगा।

>पहले पानी में गोल्डन टेंपल की तर्ज पर बनना था मंदिर

>अब नए सिरे से बनेगा इस्कॉन टेंपल का नक्शा

>16 बरस कानूनी पचड़े में भी रही मंदिर की जमीन

संजीवराणा| कुरुक्षेत्र

गीतानगरीमें इस्कॉन के भव्य कृष्ण अर्जुन मंदिर सोमवार को हुए भूमि पूजन के बाद अब हकीकत बनने जा रहा है। इस भव्य मंदिर का सपना खुद अंतरराष्ट्रीय इस्कॉन संस्था के संस्थापक स्वामी प्रभुपाद जी महाराज ने देखा। जिसे साकार होते पूर्व प्रधानमंत्री स्व.गुलजारीलाल नंदा भी देखना चाहते थे।

स्व.नंदा जी संग मिलकर ही स्वामीजी ने महाभारत गीता की भूमि पर आज से 39 बरस पहले भव्य श्रीकृष्ण अर्जुन मंदिर बनाने की रूपरेखा बनाई थी। मंदिर बनाने का विचार भी प्रभुपाद महाराज को कुरुक्षेत्र पहुंचने पर आया था। अब 39 बरसों के लंबे अंतराल के बाद यह सपना पूरा होने जा रहा है। पहले इस सपने को मूर्त रूप देने में समय लगा।

योजना बनी तो जमीन का अड़ंगा लगा। जमीन मिली तो कानूनी पचड़े में जमीन का ही मसला अटक गया। 16 बरस तक जमीन का मुद्दा अदालत में रहा।

सम्मेलन के दौरान स्वामी प्रभुपाद ने नंदा जी से कुरुक्षेत्र में ब्रह्मसरोवर किनारे तब के मुगल गार्डन, जिसे अब पुरुषोत्तमपुरा के नाम से जाना जाता है मे

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज भविष्य को लेकर कुछ योजनाएं क्रियान्वित होंगी। ईश्वर के आशीर्वाद से आप उपलब्धियां भी हासिल कर लेंगे। अभी का किया हुआ परिश्रम आगे चलकर लाभ देगा। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे लोगों के ल...

और पढ़ें