• Hindi News
  • Haryana
  • Sampla
  • नौनंद गांव के जलघर में मरी हुईं मछलियाें को देख भड़के ग्रामीण, कहा- कई साल से सफाई भी नहीं हुई
--Advertisement--

नौनंद गांव के जलघर में मरी हुईं मछलियाें को देख भड़के ग्रामीण, कहा- कई साल से सफाई भी नहीं हुई

गांवनौन्नद के जलघर में अचानक सैकड़ों मछलियां मर गई। इससे गुसाए ग्रामीणों ने जन स्वास्थ्य विभाग के खिलाफ प्रदर्शन...

Dainik Bhaskar

Jan 10, 2018, 10:10 AM IST
नौनंद गांव के जलघर में मरी हुईं मछलियाें को देख भड़के ग्रामीण, कहा- कई साल से सफाई भी नहीं हुई
गांवनौन्नद के जलघर में अचानक सैकड़ों मछलियां मर गई। इससे गुसाए ग्रामीणों ने जन स्वास्थ्य विभाग के खिलाफ प्रदर्शन किया। उनका कहना है कि जन स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने यह सब जानते हुए भी मछलियाें को जलघर से बाहर नहीं निकाला है। इस कारण उनमें से बदबू उठ रही है। इस जलघर की कई साल से सफाई भी नहीं हुई है और पानी पीने लायक नहीं है।

प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व पूर्व सरपंच बिजेंद्र ने किया। प्रदर्शनकारी ग्रामीणों का कहना है कि स्वास्थ्य विभाग लोगों के स्वास्थ के साथ खिलवाड़ कर रहा है। पूर्व सरपंच बलजीत ने कहा कि करीब चार साल पूर्व उनके कार्यकाल के दौरान टैंकों की सफाई हुई थी। इसके बाद आज तक सफाई की तरफ ध्यान नहीं दिया गया। इस कारण ग्रामीण गंदा पानी पीने को मजबूर हो रहे हैं। राजपाल, रामबीर, रमेश, राकेश, अनूप, देशराज, काला, सतबीर सहित अन्य ग्रामीणों का कहना है कि जो पानी की सप्लाई किया जा रही है वह बहुत ही निम्न दर्जे का है। विभाग ज्यादातर ट्यूबलों का पानी गांव में सप्लाई कर रहा है, जिसका टीडीएस बहुत ज्यादा होता है। यह पानी पीने के काबिल नहीं होता। मजबूरी वश पीना पड़ रहा है। इससे लोगों के स्वास्थ्य पर कुप्रभाव पड़ रहा है।

सांपला। गांवनौन्नद की महिलाओं ने पीने के पानी की समस्या को लेकर प्रदर्शन किया। इस दौरान उन्होंने मटका फोड़कर कर रोष प्रकट किया। पूनम, साहब कौर, सुनीता, मंजू, शीला, सरोज, प्रमिला, मुकेश, बेदो, राजबाला आदि का कहना है कि सप्लाई का पानी कई दिन बाद आता है। पानी की सप्लाई बहुत कम मात्रा में की जा रही है। ग्रामीणों को अन्य गांव से पानी लेकर आना पड़ रहा है। वहीं, हरिजन बस्ती का और भी बुरा हाल है। अनिता, कान्ता, कृष्णा, सुदेश गुड्डी आदि का कहना है कि मोटर लगाने के बाद भी घरों में पानी नहीं पहुंच रहा है। लगातार शिकायतों के बाद भी सुनवाई नहीं है। प्रदर्शनकारी महिलाओं ने प्रशासन की अनदेखी पर आक्रोश जाहिर किया।

क्या कहते हैं सरपंच

सरपंचप्रवीन कुमारी ने भी माना की काफी समय से जलघर में बने टैंकों की सफाई नहीं हुई है। उन्होंने बताया कि मौखिक तौर पर इसकी शिकायत स्वास्थ्य विभाग को की थी। ग्रामीणों की समस्या का समाधान कराने का प्रयास कर रही हैं।

^गांव के टैंकों की सफाई जल्द करा दी जाएगी। टैंकोंमें नहर का पानी नहीं आने से समस्या उत्पन्न हो रही है। ग्रामीणों की परेशानी को देखते ट्यूबलों से लगातार गांव में पानी की सप्लाई देने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने बताया कि जिस मरी हुई मछलियाें की बात ग्रामीण कर रहे हैं, वे वाटर टैंक में थी। इसके बाद कई स्टेज से होकर पानी घरों तक पहुंचता है। एसडीओनरेश गर्ग, जन स्वास्थ्य विभाग

सांपला. नौनंदगांव के जलघर टैंक में मरी हुईं मछलियां दिखाते ग्रामीण।

X
नौनंद गांव के जलघर में मरी हुईं मछलियाें को देख भड़के ग्रामीण, कहा- कई साल से सफाई भी नहीं हुई
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..