पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • दोबारा अपनाने लगे प्राचीन गुरुकुल पद्धति: नागपाल

दोबारा अपनाने लगे प्राचीन गुरुकुल पद्धति: नागपाल

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सिरसा | स्वदेशीसे स्वावलंबी भारत न्यास के राजेश बहुगुणा ने कहा कि भारतीय प्राचीन गुरुकुल पद्धति को लोगों ने दोबारा अपनाना शुरू कर दिया है। इतना ही नहीं अब लोग वर्तमान में स्कूलों में चल रही शिक्षा व्यवस्था से मुंंह मोड़ रहे हैं। वह न्यास की ओर से श्री सनातन धर्म संस्कृत महाविद्यालय में आयोजित सेमिनार को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि देशभर में 10 हजार से अधिक परिवार आज अपने बच्चों को स्कूलों में भेजकर अपने घरों में ही शिक्षित कर रहे हैं। इस सेमिनार में आए हुए शिक्षा में समझ और रूचि रखने वाले अध्यापकों और अभिभावकों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि भारत में बहुत से स्थानों पर दोबारा से भारतीय प्राचीन गुरुकुल पद्धति को अपनाना शुरू कर दिया है। पिछले कुछ वर्षों में गुरुकुलों पद्धति से शिक्षा देने वालों गुरुकुलों की संख्या बड़ी तेजी से बढ़ रही है, जिसमें अहमदाबाद, जोधपुर, कोल्हापुर, बेंगलोर, वेस्ट बंगाल आदि गुरुकुल शामिल हैं। सेमिनार में राम चंद्र मौर्य, नवनीत सिंगल, अर्जुन गोडिय़ा, सुरेश सोरनवाल, राजीव चावला, मनीष कुमार गुप्ता, नारायण सिंह, रणधीर सिंह, अजीत सिंह, योगेश कुमार, संदीप दहुजा, कृष्ण आर्य, रूप सिंह, अनिल कुमार, नीरू रेल्हन उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...