पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • धर्म जात मजहब के झगड़े मिटाने शाह मस्ताना धरती पर आए : संत गुरमीत

धर्म जात मजहब के झगड़े मिटाने शाह मस्ताना धरती पर आए : संत गुरमीत

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
{ संत गुरमीत राम रहीम सिंह इंसा ने काटा केक

भास्करन्यूज | सिरसा

डेरासच्चा सौदा के संस्थापक बेपरवाह शाह मस्ताना महाराज के अवतार दिवस पर गुरुवार को कार्यक्रम का आयोजन किया गया। अवतार दिवस पर संत गुरमीत राम रहीम सिंह इंसां ने शाह सतनाम धाम स्थित \\\'तेरा वास में केक काटकर शुभकामनाएं दी। इससे पहले हुई मजलिस में संत गुरमीत राम रहीम सिंह इंसां ने कहा कि आज का दिन वो दिन है जिसने पूरी दुनिया को राह दिखाया।

इस दिन रूहों को लेने दोनों जहानों के मालिक आए। उन्होंने बताया कि साईं जी ने लोगों को नशे, पाखंडवाद, ढोंग-ढकोसलों से बाहर निकलने का रास्ता बताया। ऊंच-नीच, छोटा-बड़ा धर्म जात मजहब के झगड़े मिटाने शाह मस्ताना धरती पर आए। उन्होंने कहा कि साईं जी ने सीधे-साधे शब्दों में जीवों को समझाया और ऐसा रास्ता बताया जिसे पाकर छोटा सा बच्चा भी मालिक से लीव लगा सकता है। उन्होंने बताया कि साईं जी ने ऐसी रीत चलाई है कि आज तो सिर्फ 4 साल का बच्चा भी गुरुमंत्र ले सकता है, मौक्ष मुक्ति का अधिकारी बन सकता है। उन्होंने भेदभाव को जड़ से खत्म कर दिया। साईं जी ने वास्तव में धर्म-जात, मजहब का झगड़ा मिटाया और सोई हुई अंतर आत्मा को अपनी पाक-पवित्र वचनों से जगाया।

उन्होंने कहा कि लोग अक्सर कहते है जो इंसान गुरु, सतगुरु के वचनों का पक्का होता है उसे क्या मिलता है। उन्होंने कहा कि हम आपको दावे से कहते है कि जो इंसान वचनों का पक्का होता, थोड़ा सेवा सुमिरन भी करता है उसे अंदर-बाहर से कोई कमी नहीं रहती। सांई जी, दाता रहबर ने पाठ पढ़ाया कि नेकी के रास्ते पर चलो, इंसानियत की राह पर चलो, दया- मेहर की भावना नहीं त्यागो, किसी को दुखी नहीं करों तो मालिक कण कण में जरूर नजर आएगा। इस अवसर पर सादगी पूर्ण ढंग से कई शादियां भी हुई।

सिरसा। डेरा सच्चा सौदा में मस्तानाजी के जन्म दिवस पर केक सरेमनी के बाद तेरावास से बाहर आती साधसंगत।