पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • एबीवीपी नेता बोले, केस रद्द करें, नहीं तो तीन दिन बाद फिर होगा आंदोलन

एबीवीपी नेता बोले, केस रद्द करें, नहीं तो तीन दिन बाद फिर होगा आंदोलन

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नेशनलगर्ल्स कॉलेज की विभिन्न मांगों के लिए लंबे समय से संघर्ष कर रही अखिल भारतीय विकास परिषद ने बिना वारंट दिए ही पदाधिकारियों को गिरफ्तार करने का प्रयास करने पर जिला प्रशासन को अपना रूख साफ करने के लिए तीन दिन का अल्टीमेटम दिया है। उनके अनुसार प्रशासन ने राष्ट्रीय राजमार्ग जाम करने डीसी निवास पर घेराव करने के मामले को समाप्त कर दिया था। इसके बावजूद एबीवीपी के पदाधिकारियों को गिरफ्तार कर प्रताड़ित किया जा रहा है। संगठन ने मांग कि है कि आगामी तीन दिन में सभी संबंधित अधिकारियों पर कार्रवाई करने के साथ-साथ प्रशासन उपरोक्त मामलों को वापिस ले अन्यथा वे बड़ा आंदोलन करने को मजबूर होंगे। इसके साथ ही उन्होंने गर्ल्स कॉलेज को 1 जनवरी से शिफ्ट करने की मांग की है।

गुरुवार को प्रेस कांफ्रेंस के दौरान एबीवीपी नेता सुखबीर श्योरान, सुमित मेहता, रमन जोशी ने बताया कि उनका संगठन पिछले कई महीनों से नेशनल गर्ल्स विंग की खस्ताहाल भवन के लिए संघर्ष कर रही है। इस दौरान संगठन ने छात्राओं की मांगों के लिए नेशनल हाईवे जाम करने के साथ-साथ डीसी निवास का भी घेराव किया था। उस समय प्रशासन ने उनके अनेक साथियों पर झूठे मुकदमे दर्ज कर दिए थे, जिसके बाद कई पदाधिकारियों को पुलिस ने कॉलेज उनके घर से उठा लिया था। इसके बाद जब प्रशासन ने छात्राओं की मांगों को मानते हुए बैठक की थी तो उसमें स्पष्ट किया था कि सभी मुकदमे समाप्त कर दिए गए हैं। इसके बाद भी पिछले दिनों 4 नवंबर को उनके साथी रमन जोशी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। संगठन नेताओं ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि इस प्रकार उनके साथियों को गिरफ्तार कर पुलिस अपना तानाशाही रवैया दिखाना चाहती है।

संगठन इस प्रकार की कार्रवाई को कदापि बर्दाश्त नहीं करेगा, उसके लिए चाहे उन्हें कैसा भी कदम उठाना पड़े। अगर उनके खिलाफ मुकदमे दर्ज है तो वारंट जारी कर उन्हें सूचना दें वे स्वयं अपने साथियों को पुलिस के समक्ष पेश करेंगे। उन पर दर्ज सभी मुकदमों को वापिस लिया जाएं। उन्होंने अल्टीमेटम दिया है कि अगर अगले तीन दिनों में प्रशासन ने उनकी मांगे मानी तो वे लोग बड़ा आंदोलन करने को मजबूर होंगे।

1 जनवरी से शिफ्ट किया जाए कॉलेज

एबीवीपीनेताओं ने कहा कि प्रशासन द्वारा गर्ल्स कॉलेज को महिला पॉलिटेक्निक कॉलेज में शिफ्ट करने के फैसले का स्वागत करते हैं। कॉलेज को अगले वर्ष 1 जनव