पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • सिविल अस्पताल में प्राइवेट डॉक्टर कर रहे डिलीवरी

सिविल अस्पताल में प्राइवेट डॉक्टर कर रहे डिलीवरी

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सामान्यअस्पताल में अक्टूबर महीने में 220 महिलाओं की डिलीवरी हुई। जिनमें से साठ से अधिक महिलाओं की डिलीवरी सिजेरियन आपरेशन से हुई। अस्पताल में बच्चों के विशेषज्ञ डॉक्टर होने के कारण सिजेरियन केसों में नवजात के स्वास्थ्य की जांच के लिए बाहर से निजी डॉक्टरों की सेवाएं लेनी पड़ी। इतना ही नहीं अस्पताल में एक ही महिला डॉक्टर होने के कारण भी परेशानी हो रही हैं। रोगियों ने प्रदेश सरकार प्रशासन से अस्पताल में विशेषज्ञ चिकित्सकों की नियुक्ति की मांग की है।

रोगीबढ़े, चिकित्सक नहीं

प्रदेशसरकार द्वारा सामान्य अस्पताल में गर्भवती महिलाओं को दी जाने वाली सुविधाओं के कारण अधिकतर लोग वहां उपचार के लिए आने लगे हैं। अस्पताल में प्रतिमाह करीब दो सौ डिलीवरी हो रही है। इसके अलावा अस्पताल में आम रोगियों को भी दवा, खून जांच एक्सरे अल्ट्रासाउंड की निशुल्क सुविधा मिलने के कारण यहां रोगियों की संख्या भी दिन प्रतिदिन बढ़ने लगी है। लेकिन अस्पताल में 11 मेडिकल ऑफिसरों के पदों के बावजूद मात्र तीन चिकित्सक ही कार्यरत हैं। चिकित्सकों की कमी के कारण रोगियों को अपनी जांच के लिए काफी इंतजार करना पड़ता है।

विभाग को रिपोर्ट भेजी हुई है: एसएमओ

एसएमओडॉ. सतीश गर्ग ने बताया कि रोगियों की संख्या तो लगातार बढ़ रही है लेकिन चिकित्सकों की कमी है। सिजेरियन केसों में नवजात बच्चों की देखभाल के बाहर से निजी डॉक्टरों को बुलाना पड़ता है। इसके बारे में उच्चाधिकारियों को अवगत करवाया गया है।

इन विशेषज्ञों की भी है कमी

अस्पताल में बाल रोग, महिला रोग, नेत्र रोग, हृदय रोग, जनरल फिजिशियन, चर्म रोग आदि रोगों के विशेषज्ञ चिकित्सकों की कमी भी खलती है। इन रोगों के रोगियों को अपना उपचार करवाने के लिए निजी चिकित्सकों के दरवाजे खटखटाने पड़ते हैं।