• Hindi News
  • Abusive Behavior: The Case Of Nurses Officials Sought A Day Ultimatum

अभद्र व्यवहार मामला: अधिकारियों ने मांगी नर्सों से एक दिन की मोहलत

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

रोहतक. पीजीआईएमएस के वार्ड नंबर-16 में एक पीजी छात्र द्वारा सहायक नर्सिंग अधीक्षक व स्टाफ नर्स के साथ अभद्र व्यवहार करने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। पीजी छात्र के खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं होने से संस्थान की नर्सें बुधवार को ड्यूटी छोड़कर बाहर आ गईं।

इससे वार्डों में कुछ समय के लिए कामकाज प्रभावित रहा। अधिकारियों ने एक दिन की मोहलत मांगी है। वहीं, नर्सों ने कड़ी कार्रवाई नहीं होने की सूरत में हड़ताल करने की चेतावनी दी है।


पीजीआई की सहायक नर्सिंग अधीक्षक सरोज खन्ना और स्टाफ नर्स गीता के साथ दुव्र्यवहार को लेकर नर्सें दोपहर करीब एक बजे चिकित्सा अधीक्षक कार्यालय के पास एकत्र हो गईं। यहां पर उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों को कोसना शुरू कर दिया।


नर्सों के ड्यूटी छोड़कर आने से वार्डों में कुछ समय तक कामकाज प्रभावित रहा। नर्सों का कहना है कि पीजी छात्र डॉ. ब्रेन कुमार ने बुजुर्ग स्टाफ नर्सों का भी ख्याल नहीं रखा।

उनके खिलाफ अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर गला तक पकड़ लिया। कमरे की अलमारी को नुकसान पहुंचाया और सारा सामान बिखेर दिया, लेकिन शीर्ष अधिकारियों ने पीजी छात्र के खिलाफ कार्रवाई करने की जहमत नहीं उठाई। चिकित्सा अधीक्षक कार्यालय के बाहर सभी नर्सें डेढ़ घंटे तक खड़ी रहीं।


बैठक में नहीं हुआ फैसला: हेल्थ यूनिवर्सिटी की रजिस्ट्रार डॉ. सरला हुड्डा, शिशु रोग विभागाध्यक्ष डॉ. गीता गठवाल, नर्सिंग अधीक्षक ईशवंती मलिक की इस मुद्दे को लेकर बैठक हुई, लेकिन इसमें कोई ठोस निर्णय नहीं लिया जा सका। बाद में नर्सिंग अधीक्षक ने नर्सों से बातचीत की और एक दिन की मोहलत मांगी।

उन्होंने कहा कि शीर्ष अधिकारी मामले को लेकर शर्मिंदा हैं। इस पर कड़ी कार्रवाई के लिए मंथन जारी है। हड़ताल करना कोई समाधान नहीं है। इसके बाद नर्सों ने एक दिन की मोहलत दे दी। साथ ही चेताया कि अगर एक दिन के बाद कार्रवाई नहीं हुई तो नर्सें हड़ताल करने को विवश होंगी।