• Hindi News
  • National
  • रहस्य बना इस गांव के ट्यूबवेल का पानी, 12 माह निकलता है खौलता हुआ

रहस्य बना इस गांव के ट्यूबवेल का पानी, 12 माह निकलता है खौलता हुआ

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जींद.करीब 10 हजार की आबादी वाला जींद जिले का मोरखी गांव के लोगों को पीने से पहले पानी को ठंडा करना पड़ता है। लोगों को गर्मी हो या सर्दी, पेयजल सप्लाई में पानी गर्म ही मिलता है। गर्मी के मौसम में इस पानी से नहाना तो दूर, हाथ डालने में भी दिक्कत होती है। 12 माह पीते यहां पर लोग गर्म पानी, नहीं होती कोई तकलीफ....
- मोरखी गांव के लोगों के लाेगों के लिए सर्दी के मौसम में राहत की बात यह कि नहाने के लिए इस पानी को गर्म करने की जरूरत नहीं पड़ती।
- टीडीएस की मात्रा 500 एमजी प्रति लीटर ही है। करीब दो साल से पूरा गांव इस पानी को पी रहा है और किसी को भी इससे कोई तकलीफ नहीं हुई।
- पब्लिक हेल्थ के एक्सईएन भानू प्रताप शर्मा का कहना है कि कम गहराई पर पीने योग्य पानी न मिलने के कारण इसे ज्यादा गहराई पर लगाया गया।
पेयजल समस्या के कारण 1400 फीट पर लगाना पड़ा ट्यूबवेल
- गांव के पूर्व सरपंच संदीप कुमार बताते हैं कि गांव में पेयजल की बनी गंभीर समस्या के समाधान के लिए दो साल पहले जलापूर्ति विभाग और पंचायत ने गांव में ट्यूबवेल लगाने का फैसला लिया था।
- जब ट्यूबवेल लगाया जाने लगा तो कम गहराई में कहीं पर पानी नहीं मिला। इसी दौरान पानी की तलाश में 1400 फीट तक पहुंच गए। जहां पर पानी सही मिला, लेकिन काफी गर्म था।
- इसके बाद ही ट्यूबवेल लगाया जाएगा। इस पर जलापूर्ति विभाग व पंचायत ने मिलकर गुड़गांव लैब में पानी की जांच करवाई तो यह सही पाया गया। इसमें कोई भी किसी तरह की कमी नहीं मिली।
- करीब 15 लाख रुपए खर्च कर यह ट्यूबवेल लगा और इसके बाद ज्यादातर गांव की पेयजल समस्या का समाधान हो गया। सप्लाई में जो पानी आता है, वह गर्म है।
- इसी कारण उसे पहले कुछ देर के लिए रखना पड़ता है और उसके बाद ही वह पीया जाता है। सर्दी में नहाने के लिए पानी गर्म करने की नौबत ही नहीं आती।
ये भी जानिए :पानी में टीडीएस (टोटल डिसोल्ड सॉलिड) लेवल सेहत के लिए कहां तक अच्छा है
0 से 300 तक बहुत ही अच्छा
300 से 600 तक अच्छा
600 से 900 तक काम चलाऊ
900 से 1200 तक चिंताजनक
1200 से ऊपर पीने योग्य नहीं
एक्सपर्ट व्यू : सेहत पर कोई असर नहीं

फिजीशियन डॉ. प्रवीन गुप्ता का कहना है कि ट्यूबवेल से निकलने वाले गर्म पानी का सेहत पर कोई खराब असर नहीं पड़ता। बशर्ते, पानी में सल्फर ज्यादा न हो।
आगे की स्लाइड्स में देखें, इस रहस्यमयी ट्यूबवेल की चुनिंदा फोटोज....
खबरें और भी हैं...