धरने पर माइक और बैनर, प्रशासन ने कहा- अनुमति लें

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पानीपत. जाट आरक्षण समिति की उग्राखेड़ी की चौपाल में धरना लगातार दूसरे दिन जारी रहा। जाट नेताओं ने कहा कि आरक्षण के नाम पर धोखे का बदला यूपी चुनाव में लेंगे। रविवार को ग्रामीणों ने खाने-पीने की व्यवस्था की। शाम 5 बजे बजे धरना समाप्त हुआ। यूपी के शहर में शामली में समिति के राष्ट्रीय यशपाल मलिक आए हुए थे। कुछ सदस्य उनसे वहां जाकर मिलकर आए।
 
जसिया का उदाहरण : भीड़ जुटाने का संदेश भी दिया
1 समिति सदस्यों ने संबोधन के दौरान जसिया का उदाहरण दिया। कहा कि हमको रोहतक के जसिया से सीख लेनी चाहिए। वहां भीड़ से सरकार भी हैरान है। हमें भी उन्हीं की तर्ज पर भीड़ जुटानी होगी। कहा गया कि जसिया हमारा बैकअप है। अगर प्रदेश में कहीं भी हमारे किसी सदस्य के साथ हुआ तो सबसे पहले जसिया उठेगा और परिणाम सरकार भुगतेगी।
 
यूपी चुनाव : हार का डर दिखा सरकार को चेतावनी
2 धरने पर यूपी चुनाव का भी जिक्र हुआ। भाजपा की यूपी में हार बताकर सरकार को चेतावनी दी गई। राष्ट्रीय सचिव प्रताप दहिया ने लोगों को पर्चे वितरित किए और कहा कि शामली में यशपाल मलिक आए थे। वहां लोगों को यही पर्चे देकर समझाया गया कि किस तरह भाजपा सरकार ने जाटों से धोखा किया है। इसलिए यूपी का एक भी जाट भाजपा को वोट नहीं देगा।
चेताया : प्रशासन ने छेड़ा तो फिर जिम्मेदार नहीं होंगे
 
3 तहसीलदार जीवेंद्र मलिक और हुडा ईओ दीपक घनघस लोगों से धरना स्थल पर मिले। उन्होंने कहा कि माइक या बैनर लगाने से पहले मंजूरी लें। सदस्यों ने सहमति जताई और कहा कि हमें स्टेडियम में या बाहर कहीं परमिशन दी जाए। शांति रखने की बात पर समिति सदस्य बोले- हम शांति से ही धरना देंगे, लेकिन प्रशासन ने पहले हमें छेड़ा तो फिर हम जिम्मेदार नहीं होंगे।
 
चिंता : कुछ लोग राजनीित के लिए बिगाड़ रहे माहौल
4 दिन में कई बार 36 बिरादरी के भाईचारे का संदेश दिया गया। संबोधन में समिति के प्रदेश महासचिव सुरेंद्र मलिक ने कहा कि कुछ लोग अपनी राजनीति चमकाने को विवाद करा रहे हैं। इस दौरान एक सदस्य ने कहा कि एक नेता एक जाति का मसीहा बनने की बात कर सीएम बनना चाहता है। लेकिन उसे यह नहीं पता कि उस जाति के लोग भी हमारे साथ हैं। 
 
शांतिपूर्वक दें धरना : सीएम
सीएम मनोहरलाल ने कहा कि आरक्षण को लेकर धरने पर बैठे जाट समाज के लोग शांति पूर्वक धरना दें। बातचीत के लिए सरकार के दरवाजे खुले हैं। सीएम सोमवार शाम को कालका शताब्दी में चंडीगढ़ से दिल्ली पहुंचे। शाम 8:55 पर दो मिनट के लिए वे पानीपत रेलवे स्टेशन पर रुके। महिला कार्यकर्ता सुमन भल्ला, महक दीवान, अनीता ने खिड़की से सीएम से गुजारिश कर उन्हें बाहर आने को कहा। इसके बाद वे दो मिनट बाहर आकर उनसे मिले और पत्रकारों से बात की। इस मौके पर रेल वार्डन जिला सचिव राजेश चानना, राणा ठकराल, सोनू नागपाल भी मौजूद रहे। इसके बाद वे दिल्ली के लिए रवाना हो गए।
 
आगे की स्लाइड्स में देखें,फोटोज
खबरें और भी हैं...