यमुना नदी में 25 फीट तक खनन, 30 लाख रुपए की रेत चोरी हो रही हर दिन / यमुना नदी में 25 फीट तक खनन, 30 लाख रुपए की रेत चोरी हो रही हर दिन

सनौली और यूपी बॉर्डर से लगते इलाकों में खनन माफिया दिन-रात रेत लूट रहा है।

संदीप भौरिया /उमेश त्यागी

May 30, 2017, 09:05 AM IST
illegal sand mining in yamuna river panipat
पानीपत/सनौली. सनौली और यूपी बॉर्डर से लगते इलाकों में खनन माफिया दिन-रात रेत लूट रहा है। यमुना के किनारों और ड्रेन नंबर 2 के साथ अन्य जगह से जेसीबी की मदद से 20 से 25 फुट तक खुदाई कर रोज 30 से 32 लाख रुपए का रेत निकाल जा रहा है। इस तरह 100 से ज्यादा खनन माफिया हर महीने करीब 10 करोड़ रुपए के अवैध खनन का कारोबार कर रहे हैं। जिले में केवल एक ही वैध ठेका गांव राजाखेड़ी और राक्सेड़ा में है। माफियाओं से परेशान होकर दो ठेकेदारों ने खनन का काम शुरू करने से पहले ही छोड़ दिया।

रात के अंधेरे में माफिया यूपी, सोनीपत, गाेहाना, जींद, कुरुक्षेत्र करनाल में रेत सप्लाई करते हैं। माफिया किस कद्र बेखौफ है इसका अंदाजा इससे भी लगाया जा सकता है कि निंबरी में निगम के डंपिंग स्थल को खोद डाला है। खनन विभाग, आरटीए और पुलिस इसको रोकने में पूरी तरह से असफल रहे हैं। पुलिस का कहना है कि माइनिंग को रोकना खनन विभाग का काम है पुलिस उन्हें अपना पूरा सहयोग देती है। गांव वालों का कहना है कि यह पूरा धंधा प्रशासन की मिलीभगत से चल रहा है। रेत से भरे डंपर खनन माफिया की सिक्योरिटी में चलते हैं। डंपरों के आगे कारों-बाइकों पर हथियारों से लैस बदमाश चलते हैं। अवैध रूप से रेत लेकर आए ये डंपर थाना चांदनी बाग पुलिस ने पकड़े हैं।
पुलिस भी रेत माफियाओं के ट्रैक्टर डंपर पर हाथ डालने से कतराती है। कई बार पुलिस अधिकारियों के साथ रेत माफियाओं की मुठभेड़ भी हो चुकी है। सदर थाना के तत्कालीन प्रभारी अमित कुमार उनकी टीम पर रेत माफियाओं ने जानलेवा हमला कर दिया था। वह सनौली बबैल गांव में अवैध खनन रोकने के लिए गए थे। इसके अलावा भी यूपी हरियाणा बॉर्डर पर पुलिस पर यह हमला कर चुके हैं। उझा के पूर्व सरपंच श्यामलाल, साहब सिंह, ईश्वर, रामफल, ओमा, सुनील, राजेश का कहना है कि गांव की पंचायती भूमि पर रेत तस्करी की शिकायत कई बार कर चुके हैं। मगर रिजल्ट कुछ नहीं निकला।
यमुना में आजकल पानी नहीं है इसलिए खनन जोरों पर है।

2012 के खनन रूल के अनुसार कोई पहली बार अवैध खनन करता पाया जाता है तो 10 हजार जुर्माना रॉयल्टी खनिज की कीमत वसूली जाती है। दूसरी बार जुर्माना, रॉयल्टी खनिज की कीमत दोगुना वसूली जाती है। तीसरी बार में खनन विभाग वाहन को जब्त कर मुकदमा दर्ज कराता है।
अप्रैल-मई में खनन विभाग ने अवैध खनन करते 223 ट्रैक्टर-ट्रॉली डंपर पकड़े। जुर्माना भर 137 वाहनों को छुड़वा लिया गया, जबकि 86 वाहन अब भी खनन विभाग के कब्जे में ही है। इसमें से 40 वाहन थाना सदर, थाना बापौली, थाना चांदनी बाग थाना समालखा ने पकड़े है।
एक रेत माफिया ने बताया कि एक नंबर में रेत लेने पर एक पर्ची मिलती है। वह पर्ची खनन विभाग को दिखाई जाती है। अवैध रूप से रेत लेने पर सिर्फ मजदूरों की मजदूरी लगती है। नाकों पर पुलिस के साथ सेटिंग होती है। हर पुलिस के नाकों पर उनके 100 से 200 रु. लगते हैं।
एक ठेकेदार ने बताया कि यमुना के तटीय क्षेत्र के 10 से अधिक गांवों से हर रोज जेसीबी से खुदाई के बाद डंपर के साथ साथ बुग्गी रेहडिय़ों पर रेत ढोया जाता है। किसान मदन, सुरेश, बलराज, महावीर, बलवान, रामकुमार आदि ने बताया कि खनन से नदी के दोनों किनारों के मिट्टी के बांध पर कटाव पड़ गया है। आरोप है अवगत होने के बाद भी प्रशासन कार्रवाई नहीं कर रहा है।
गांव रामड़ा, गढ़ी बेसिक, बबैल, हथवाला सनौली, गांव राणा माजरा, पत्थरगढ़, नवादा, तामसाबाद, सनौली, रिशपुर, नन्हेड़ा, अधमी, जलमाना, गोयला, तहारपुर, ड्रेन नंबर-2, मौहाली, कुराड, छाजपुर कला, छाजपुर खुर्द, रसलापूर और जालपहाड से लगती नदी में खनन हो रहा है। कई जगह माफिया के मुखबिर हैं जो पुलिस आने की खबर देते हैं।
हाईकोर्ट के आदेश अनुसार किसी भी सरकारी खनन साइट पर 3 से 5 फीट तक ही खुदाई की जा सकती है। मगरखनन माफिया 20 से 25 फीट तक खुदाई कर रेत निकाल रहा है। निंबरी में बने नगर निगम के डंपिंग साइट पर 30 फीट तक रेत की तस्करी की जा रही है। गांव जालपहाड में पिछले वर्ष ड्रेन नंबर-2 के अंदर झोटा बुगी में रेत निकालते हुए एक मजदूर की रेत की ढांग गिरने से उसके नीचे दब जाने पर मौत हो गई थी
मिट्टी रेत के लिए अलग से नियम हैं। जो 223 वाहन पकड़े गए हैं यह सब ठेकेदार के ही वाहन होते हैं। यह रेत माफिया नहीं हैं। इनमें से कुछ वाहन ओवरलोडिंग में, कुछ की पर्ची में कमी पाई गई, तो कुछ वाहन के कागजात ना होने के कारण ही पकड़े गए है। जिले में अवैध माइनिंग सिर्फ 5 प्रतिशत ही होती है।
- माधवी गुप्ता, जिला खनन अधिकारी पानीपत।
यमुना के साथ लगते गांव राणा माजरा में पक्का नाका लगाया है। वहां पुलिस राइडर तैनात हैं। रेत तस्करी रोकने के लिए पूरे प्रयास किए जा रहे हंै। पिछले दिनों नदी के अंदर से कई ट्रैक्टर-ट्राली, डंपर और जेसीबी भी पकड़ी गई थी।
- नरेन्द्रकुमार, एसएचओ, सनौली थाना
X
illegal sand mining in yamuna river panipat
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना