पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • हरियाणा व्यापार मंडल ने वैट पर 5 लाख तक के मंथली टैक्स के लिए समय सीमा बढ़ाने की मांग की

हरियाणा व्यापार मंडल ने वैट पर 5 लाख तक के मंथली टैक्स के लिए समय-सीमा बढ़ाने की मांग की

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पानीपत | हरियाणाव्यापार मंडल ने वैट पर सरकार के फैसले का स्वागत किया है। साथ ही मंथली टैक्स की लायबिलिटी को 5 लाख रुपए तक करने की मांग की है। यानी हर माह 5 लाख रुपए के टैक्स देने वाले व्यापारियों को भी 3 महीने के बाद टैक्स भरने की छूट दी जाए। हरियाणा व्यापार मंडल के चेयरमैन रोशनलाल गुप्ता और प्रधान शिवकुमार जैन ने संयुक्त बयान में कहा कि वैट पर सरकार के फैसले से व्यापारियों को बहुत लाभ होगा, लेकिन बड़े व्यापारियों को इसका उतना लाभ नहीं मिलेगा। सरकार ने बुधवार को बकाया टैक्स में राहत देने के लिए संशोधित एक्ट पारित किया है।

अब सरकार व्यापारियों को बकाया राशि पर ब्याज और जुर्माना माफ कर सकेगी।

व्यापार मंडल के चेयरमैन रोशनलाल गुप्ता ने ने कहा कि महीने में अभी 1 लाख रुपए के टैक्स की देनदारी होने पर तीन महीने का एक साथ टैक्स भरने की छूट है। जबकि मंथली 5 लाख रुपए तक का टैक्स भरने वाले व्यापारियों को हर महीने टैक्स भरना होता है। सरकार एक लाख की सीमा को बढ़ाकर 5 लाख रुपए कर दे तो व्यापारियों को राहत होगी। चेयरमैन ने साथ ही सरकार से मांग की है कि एक समान कर प्रणाली के तहत सूती धागे से वैट हटाया जाए। अभी कॉटन यार्न पर दिल्ली और यूपी में कोई कर नहीं है। वहीं हरियाणा में 5.25 प्रतिशत, राजस्थान में 2 प्रतिशत और उत्तराखंड में 1 प्रतिशत वैट लगता है।