पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • महंगी सब्जी |किसान को घाटा, मुश्किल में ग्राहक, बिचौलिए खुश

महंगी सब्जी |किसान को घाटा, मुश्किल में ग्राहक, बिचौलिए खुश

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जमीन, फसल और मेहनत हमारी दिल्ली इफेक्ट भाव पर पड़े भारी

खेतमें सब्जी घरों की रसोई में पहुंचते-पहुंचते 5 रुपए से 30 रुपए प्रतिकिलो के भाव हो जाती है। फायदा किसान को मिल रहा है और ग्राहक को। बिचौलियों के मुनाफे ने भावों की बोली लगा रखी है। हालत यह है कि सब्जी हमारे जिले में पैदा होती है, फिर भी हमें खरीदनी दिल्ली वाले भाव पर ही पड़ती है। सब्जी पर पिछली सरकार ने मार्केट फीस खत्म कर दी थी। फिर भी सब्जी के भाव पर कंट्रोल नहीं है।

भाव बढ़ने को लेकर गुरुवार को मंडी से लेकर घरों तक पड़ताल की गई। बाहर से रहे आलू, प्याज को छोड़ दें तो लोकल सब्जी के भाव भी मनमाने भाव पर बेचे जाते हैं। आलू मंडी में रिटेल 30 रुपए, प्याज 25 रुपए, गाजर 35 रुपए, टमाटर 25 रुपए किलो तक बिक रहा था।

पानीपत. मंडीमें मूली लेकर पहुंचे किसान भाव कम होने पर उदास बैठे हुए।

हजार हेक्टेयर में सब्जी उत्पादन जिले में। 2.25 लाख टन सब्जी उत्पादन करते हैं।