पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Panipat
  • पीजीआई की रिपोर्ट से स्वास्थ्य मंत्री नाखुश

3 घंटे एंबुलेंस में देरी पर विवाद : पीजीआई की रिपोर्ट से स्वास्थ्य मंत्री नाखुश

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
चंडीगढ़। पूर्व सीएम मास्टर हुकुम सिंह को करीब 3 घंटे तक एंबुलेंस और अटेंडेंट उपलब्ध नहीं कराए जाने के मामले की इन्क्वायरी अब आईएएस प्रदीप कासनी करेंगे। कासनी अभी मेडिकल एजूकेशन एंड रिसर्च विभाग के सचिव एवं महानिदेशक हैं। इससे पहले यह जांच पीजीआई रोहतक के डायरेक्टर को सौंपी गई थी, लेकिन उनकी प्रारंभिक जांच रिपोर्ट से हैल्थ मिनिस्टर अनिल विज संतुष्ट नहीं हुए हैं।

उल्लेखनीय है कि पूर्व सीएम मास्टर हुकुम सिंह पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे। उनका पीजीआई रोहतक में इलाज चल रहा था। वीरवार को तबीयत ज्यादा खराब होने पर उन्होंने गुड़गांव के मेदांता में जाकर इलाज कराने की इच्छा जताई थी। इस पर पीजीआई रोहतक के डॉक्टरों ने उन्हें रैफर तो कर दिया, लेकिन करीब 3 घंटे तक न तो एंबुलेंस उपलब्ध करवाई गई और न ही गंभीर हालत होते हुए भी एंबुलेंस में किसी चिकित्सक अथवा मेडिकल स्टाफ को साथ भेजा। गुड़गांव मेदांता में जाने के कुछ समय बाद ही पूर्व सीएम मास्टर हुकुम सिंह का निधन हो गया।
विज और हेल्थ डिपार्टमेंट की हुई किरकिरी
हेल्थ मिनिस्टर अनिल विज लगातार औचक निरीक्षण और सख्त रवैया अपनाकर हेल्थ डिपार्टमेंट की कार्यशैली सुधारने की कोशिश कर रहे हैं। कभी साफ-सफाई तो कभी पानी की टंकियों की सफाई, कभी डाक्टरों की उपस्थिति आदि को लेकर वे आए दिन मीडिया में बने रहते हैं।
लेकिन पूर्व सीएम को 3 घंटे तक एंबुलेंस जैसी सुविधा नहीं मिलने की घटना ने हेल्थ डिपार्टमेंट और अस्पतालों की कार्यशैली की पोल खोल दी है। हालांकि मामला सामने आते ही विज ने वीरवार को ही जांच के आदेश दे दिए थे, लेकिन डॉक्टर जांच के नाम एक-दूसरे को बचाने की कोशिशों में लगे हुए है।
पूर्व सीएम हुकुम को बेटे ने दी मुखाग्नि
चरखी दादरी। शुक्रवार को पूर्व मुख्यमंत्री मास्टर हुकम सिंह का राजकीय सम्मान के साथ भिवानी रोड-रावलधी लिंक मार्ग स्थित उनके खेत में अंतिम संस्कार किया गया। उनकी अंतिम यात्रा में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर सहित प्रदेश के कई बड़े नेताओं ने पहुंचकर श्रद्धांजलि अर्पित की।