तस्वीर देखते ही पिता के दुश्मन की हो गई दीवानी, मूर्ति को पहना दी वरमाला / तस्वीर देखते ही पिता के दुश्मन की हो गई दीवानी, मूर्ति को पहना दी वरमाला

अपनी प्रेमिका का अपहरण उसके पिता के सामने उस वक्त कर लिया जब उसका स्वयंवर चल रहा था।

May 06, 2014, 02:46 AM IST
पानीपत. हरियाणा की माटी सदैव से ही महापुरुषों और वीरों की भूमि रही है। वीरभूमि के साथ-साथ आज भी लोग वीरयोद्धाओं को उनकी प्रेम कहानियों को लिए याद रखते हैं। चाहे वो अकबर हों या फिर मुगल काल में उनके विरोधी।
dainikbhaskar.com 'इतिहास के झरोसे से' सीरीज के तहत आपको बता रहे हैं एक ऐसे प्रेमी की कहानी जिसने अपनी प्रेमिका का अपहरण उसके पिता के सामने उस वक्त कर लिया जब उसका स्वयंवर चल रहा था।
दिल्ली की राजगद्दी पर बैठने वाले अंतिम हिन्दू शासक और भारत के महान वीर योद्धाओं में शामिल पृथ्वीराज चौहान का नाम कौन नहीं जानता। एक ऐसा वीर योद्धा जिसने अपने बचपन में ही शेर का जबड़ा फाड़ डाला था और जिसने अपनी आंखे खो देने के बावजूद भी मोहम्मद गौरी को हराकर उनकी मृत्यु कर दी थी।
ये सभी जानते हैं कि पृथ्वीराज चौहान एक वीर योद्धा थे लेकिन ये बहुत कम ही लोगों को पता है कि वो एक महान प्रेमी भी थे। वो कन्नौज के महाराज जय चन्द्र की पुत्री संयोगिता से प्रेम करते थे। दोनो में प्रेम इतना था कि राजकुमारी को पाने के लिए पृथ्वी स्वयंवर के बीच से उन्हें उठा लाए थे। हालांकि इस प्रेम कहानी की शुरुआत के पीछे भी एक कहानी है। संयोगिता ने अपने महल में आए एक चित्रकार के चित्र देखते हुए पृथ्वीराज चौहान का चित्र देखा था। चित्र देखते ही संयोगिता उन्हें दिल दे बैठीं थी। वहीं, चित्रकार ने संयोगिता का चित्र पृथ्वीराज चौहान को दिखाया तो वो भी मन ही मन उनसे प्रेम करने लगे थे। इस प्रेम कहानी में और भी कईं रोचक मुकाम आए। आइए हम आपको बताते हैं कि आखिर कैसे शुरू हुई संयोगिता और पृथ्वीराज चौहान की प्रेम कहानी।
नोटः पृथ्वीराज चौहान ने मुगल शासकों से रक्षा के लिए हरियाणा के हिसार में एक किले का निर्माण कराया था। हालांकि बाद में मुगल शासकों ने इस किले पर कब्जा कर लिया। इसके बाद इस किले में एक मस्जिद का निर्माण भी कराया गया था। पर्यटक आज भी इस किले और मस्जिद के खूबसूरत दृश्य देख सकते हैं।
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए कैसे शुरू हुई, पृथ्वीराज चौहान और संयोगिता की प्रेम कहानी...
(नोट: तस्वीरों का इस्तेमाल केवल प्रतीक स्वरुप किया गया है।)
X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना