• Hindi News
  • 're Going To Build A House, Let Me Tell You The New Rules Of Municipal

बनवाने जा रहें है मकान तो जान लीजिए नगर निगम का ये नया नियम

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

पानीपत. शहर में घर बनाना है या कमर्शियल जगह का निर्माण करना है तो अब वाहन पार्किंग के लिए जगह छोडऩी ही पड़ेगी। इसके बगैर नक्शा पास नहीं होगा। इसके लिए बाकायदा नगर निगम में शपथ पत्र देना होगा। इस पर लिखना होगा कि 'मैंने पार्किंग के लिए जगह छोड़ दी है।"

इसके बाद ही नक्शा पास होगा। नगर निगम के अधिकारी भी मौके पर जाकर जांच करेंगे। अगर शपथ पत्र झूठा पाया गया तो भवन को तुड़वाया भी जा सकता है।


जाम से पार पाने का है प्रयास
इस समय शहर के रेलवे रोड, इंसार बाजार, अमर भवन चौक, सनौली रोड, असंध रोड, गोहाना रोड, सुखदेव नगर, कलंदर चौक, गुड़ मंडी सहित कई बाजारों में दुकानों में पार्किंग की व्यवस्था नहीं है। इसी वजह से वाहनों को बाहर सड़क पर खड़ा कर दिया जाता है और सुबह से लेकर शाम तक रुक-रुक कर जाम लगा रहता है।

इसी तरह से काफी लोग घरों के बाहर भी वाहन खड़े कर देते हैं और उससे जाम लगता है। इस समस्या के समाधान के लिए ही नगर निगम ने रिहायशी भवन बनाने के लिए भी पार्किंग बनाने पर जोर दिया है। पार्किंग की जगह होगी तो जाम की समस्या से स्वत: ही निजात मिल जाएगा।

ये है पार्किंग के नियम
शहरी स्थानीय निकाय के नियम के अनुसार रिहायशी व कमर्शियल भवन में पार्किंग के लिए 10 मीटर चौड़ाई पर डेढ़ मीटर जगह पार्किंग के लिए छोडऩी पड़ेगी। मान लीजिए, आपका प्लॉट 100 मीटर चौड़ा है तो आपको 15 मीटर जगह पार्किंग के लिए छोडऩी होगी।

इसी तरह 10 से 20 मीटर चौड़ा है तो ढाई मीटर और 20 से 30 मीटर पर साढ़े तीन मीटर और 30 से 40 मीटर पर 5.5 मीटर जगह पार्किंग के लिए जगह रखनी होगी।


टायलेट के लिए भी देना होगा एफिडेविट
मकान की पार्किंग के साथ-साथ उसमें बनने वाले टायलेट का भी एफिडेविट देना होगा। इसमें बताना होगा कि टायलेट में ड्यूल बटन लगाया जाएगा। तभी मकान का नक्शा पास होगा। अन्यथा नगर निगम नक्शा पास नहीं करेगा।

नगर निगम अधिकारियों के अनुसार टायलेट के एक बटन से जो पानी खर्च होता है, ड्यूल बटन से 50 प्रतिशत की बचत होगी। शहर में 60 हजार मकान हैं। इनमें अधिकतर में टायलेट में वन बटन है। इससे पानी की ज्यादा बर्बादी होती है। नए मकान में टायलेट में ड्यूल बटन लगाना जरूरी होगा।


ये है विकास शुल्क
नगर निगम रिहायशी व कमर्शियल भवन के नक्शे पास के लिए अलग-अलग विकास शुल्क वसूलती है। रिहायशी भवन का नक्शा पास करवाने के लिए 120 रुपए प्रति गज और कमर्शियल भवन के लिए 1200 रुपए प्रति स्क्वेयर मीटर के हिसाब से विकास शुल्क निगम को देना पड़ता है।

नगर निगम में हर साल करीब 850 नक्शे पास होने के लिए आते हैं। हर महीने 30 नक्शे आते हैं। इसमें 18 नक्शे रिहायशी और 12 कमर्शियल होते हैं।