पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • The Two day Strike Was Made ​​by The Unaided, Will Today Relief

दो दिन की हड़ताल ने कर दिया था बेबस, आज मिलेगी राहत

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

पानीपत. ट्रेड यूनियनों की लगातार दूसरे दिन की हड़ताल के कारण चक्का जाम रहा। साथ ही, जिले में करीब 1900 करोड़ का बैंकिंग व अन्य कार्य प्रभावित रहा। सेंटर ट्रेड यूनियन से संबंधित आंगनवाड़ी कर्मियों ने रेलवे स्टेशन पर प्लेटफॉर्म नंबर एक पर अमृतसर से मुंबई जाने वाली ट्रेन को रोकने प्रयास किया, पुलिस से जोरदार झड़प भी हुई।।

लोग प्राइवेट बसों, मैक्सी कैब, ऑटो, जीपों व निजी वाहनों के भरोसे रहे। सबसे अधिक परेशानी महिलाओं, बच्चों व वृद्धों को हुई। निजी वाहनों ने मनमाने दाम वसूले। बैंकिंग से लेकर बिजली कर्मियों की हड़ताल के कारण आम आदमी लेन-देन नहीं कर सका।

अधिकतर एटीएम बंद रहने से लोग पैसे नहीं निकलवा सके। पानीपत इंडस्ट्रीज में 400 व बैंकिंग सेक्टर को 1500 करोड़ यानी दो दिन में कुल 1900 करोड़ का कार्य प्रभावित रहा।


रेल रोकने का प्रयास, पुलिस से कामरेडों की जबरदस्त झड़प
रेलवे स्टेशन पर दोपहर 2 बजकर 20 मिनट पर अमृतसर से मुंबई जाने वाली ट्रेन को सेंटर ट्रेड यूनियन से संबंधित सीटू के पदाधिकारी सुनील दत्त, संतोष रावल, प्रधान शीला सहित अन्य दो महिला कर्मियों ने रेल रोकने का प्रयास किया।

इस दौरान पुलिस से आंगनवाड़ी वर्करों की जबरदस्त झड़प भी हुई। झड़प के दौरान पांच लोग रेलवे प्लेटफार्म नंबर वन पर पहुंच गए, लेकिन रेल रोकने में नाकाम रहे। उधर, देर शाम को बस सेवा बहाल कर दी गई, जिससे लोगों ने राहत की सांस ली।


इंडस्ट्री का नहीं हो सका लेन-देन
पानीपत में दस हजार से अधिक इंडस्ट्रीज हैं। हैंडलूम, टेक्सटाइल, स्पिनिंग, वूलन, कॉटन, इंजीनियरिंग, डाई यूनिट सहित यहां दस हजार इंडस्ट्रीज हैं और इन पर 2.50 लाख से अधिक लोग निर्भर हैं।

हरियाणा चैंबर ऑफ कामर्स के प्रदेशाध्यक्ष पंकज कपूर ने माना कि पानीपत इंडस्ट्रीज पर दो दिन में 400 करोड़ से अधिक का प्रभाव पड़ा। माल की आवक-जावक नहीं हो पाई। प्राइवेट कर्मचारी खाली बैठे रहे।