• Hindi News
  • Haryana
  • Panchkula
  • सफाई के लिए मिले पर्याप्त स्टाफ, अगर कोई रोड पर कंस्ट्रक्शन मैटीरियल िगराए तो लगे पेनल्टी

सफाई के लिए मिले पर्याप्त स्टाफ, अगर कोई रोड पर कंस्ट्रक्शन मैटीरियल िगराए तो लगे पेनल्टी / सफाई के लिए मिले पर्याप्त स्टाफ, अगर कोई रोड पर कंस्ट्रक्शन मैटीरियल िगराए तो लगे पेनल्टी

Panchkula News - समयपर एप्लाई करने के कारण स्मार्ट सिटी की दौड़ से बाहर हो गए पंचकूला को नीट एंड क्लीन सिटी बनने के लिए अभी काफी कदम...

Bhaskar News Network

Dec 17, 2016, 03:10 AM IST
सफाई के लिए मिले पर्याप्त स्टाफ, अगर कोई रोड पर कंस्ट्रक्शन मैटीरियल िगराए तो लगे पेनल्टी
समयपर एप्लाई करने के कारण स्मार्ट सिटी की दौड़ से बाहर हो गए पंचकूला को नीट एंड क्लीन सिटी बनने के लिए अभी काफी कदम तय करने हैं। मिनिस्ट्री ऑफ अर्बन डेवलपमेंट और क्वालिटी काउंसिल ऑफ इंडिया की नई दिल्ली से आई टीम की ओर से शुक्रवार को दी गई प्रेजेंटेशन में यह साबित हो गया। डीसी ऑफिस, सेक्टर 1 के काॅन्फ्रेंस हाल में पंचकूला नगर निगम के अफसरों, पार्षदों, पूर्व पार्षदों विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधियों के समक्ष प्रेजेंटेशन देते हुए टीम मेंबर्स ने एप्लाई करने के लिए जरूरतें मार्क्स आंकलन के बारे में विस्तार से बताया। केंद्र सरकार की ओर से जनवरी, 2017 में होने जा रहे स्वच्छता सर्वेक्षण के लिए तैयार किए गए परफॉर्मा में सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट का इंतजाम होना जरूरी है।

प्लास्टिक बैन होने पर जब्त किए गए पॉलिथीन का सड़क निर्माण में इस्तेमाल करने के मार्क्स रखे गए हैं। सफाई के लिए पर्याप्त स्टॉफ हो। कंस्ट्रक्शन एक्टिविटीज के दौरान बिल्डिंग मैटीरियल सड़कों पर गिराने के लिए पेनल्टी का प्रावधान होने, कचरा फैलाने में बेंक्वेट हाल, रेस्टोरेंट, होटल, कॉलेज, हॉस्टल, सब्जी मंडी आदि जैसे बल्क गारबेज प्रोड्यूसर्स के लिए अपने स्तर पर कचरे के निपटान जैी व्यवस्था करना जरूरी है।

शहर खुले में शौच मुक्त होने के साथ कम्युनिटी टॉयलेट साफ होने जरूरी है। झुग्गी झोपड़ी वाले इलाकाें में कम्युनिटी टॉयलेट होने चाहिए। इनमें पंचकूला को मार्क्स दिलाने के लिए अभी काम होना बाकी है क्योंकि इस दिशा में अभी शहर ने शुरूआत तक नहीं की है। निगम को अभी अपनी स्वच्छता एप्प भी बनानी है जिसमें शहर के लोग कचरे के ढेर के फोटो खींचकर डाल सकेंगे। निगम को यह कचरा जल्द से जल्द उठवाना होगा। पंचकूला एमसी को पाॅलिथीन बैन होने की स्थिति में जब्त किया प्लास्टिक सड़काें के निर्माण में इस्तेमाल होने की सलाह दी गई। पॉलिभीन वाटर सीपेज को रोकता है जिससे सड़कें जल्दी नहीं टूटती। डोर टू डोर एकत्र किए गए कचरा का सेग्रीगेशन होने पर 24 मार्क्स दिए जाएंगे। परफॉर्मा में दिए छह मार्क्स हासिल करने के लिए एमसी एक्ट, 2016 का हवाला देते हुए हाेटल, बेंक्वेट हॉल, रेस्टोरेंट, कॉलेज, स्कूल, हॉस्टल के लिए अपने स्तर पर कचरे के निपटारे की व्यवस्था कराने को कहा गया। शहर को खुले में शौच मुक्त बनाने के साथ हर छह माह बाद माइग्रेशन पॉपुलेशन पर नजर रखने और उनके शौच के लिए कम्युनिटी टॉयलेट की व्यवस्था करनी होगी। निगम को स्वच्छता एप्प पर स्वच्छता के लिए हो रहे प्रयासों की जानकारी रेगुलर अपडेट करनी होगी।

पंचकूला नगर निगम पहले चरण में परफॉर्मा के आधार पर प्रश्नों का जवाब देगा जिसके आधार पर मार्क्स दिए जाएंगे। इसके बाद दिल्ली से आई टीम शहर के लोगों से बातचीत के आधार पर रेजिडेंशियल कमर्शियल एरिया में रेगुलर सफाई की जानकारी लेकर मार्क्स देगी। ये टीम शहर में घूमकर कमर्शियल एरिया, रेजिडेंशियल एरिया खासतौर पर धार्मिक स्थलों के आसपास का एरिया, बस स्टेंड, रेलवे स्टेशन के आसपास की सफाई चेक करेगी।

लोगों से बातचीत के आधार पर 600 मार्क्स दिए जाने हंै। वहीं शहर में घूमकर की गई इंस्पेक्शन के 500 मार्क्स दिए जाएंगे। नगर निगम की तरफ से दी गई जानकारी के आधार पर 900 मार्क्स दिए जाएंगे। स्वच्छता सर्वेक्षण में कुल 2000 में से मार्क्स दिए जाएंगे।

स्वच्छता सर्वेक्षण को लेकर आज हुई मीटिंग ने साबित कर दिया कि पंचकूला नगर निगम के पार्षद शहर को साफ बनाने को लेकर कितना गंभीर हैं। इस वर्कशॉप में पार्षद कुलजीत कौर वड़ैच, लिली बावा, भावना गुप्ता, ओमवती पूनिया, सुरिंद्र छिंदा गैर हाजिर रहे। वहीं कुछ पार्षद वर्कशॉप के दौरान मोबाइल सुनने, इंटरनेट पर चेटिंग आंखें बंद कर थकान मिटाते दिखे। कुछ पार्षद तो वर्कशॉप शुरू होने के चंद मिनटों बाद ही वापस लौट गए। डीसी ऑफिस में हुई इस मीटिंग में डिप्टी कमिश्नर डॉ. गरिमा मित्तल, एसडीएम जगदीप डांढा, मेयर उपिंदर आहलूवालिया, सीनियर डिप्टी मेयर एसएस नंदा, एग्जिक्यूटिव अफसर ओपी सिहाग आदि मौजूद थे।

X
सफाई के लिए मिले पर्याप्त स्टाफ, अगर कोई रोड पर कंस्ट्रक्शन मैटीरियल िगराए तो लगे पेनल्टी
COMMENT