• Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Rohtak
  • वैश्य और दलित एक हो जाए तो देश में होगा नई क्रांति का आगाज : सुभाष

वैश्य और दलित एक हो जाए तो देश में होगा नई क्रांति का आगाज : सुभाष

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
संविधाननिर्माता भारत र| डॉ. भीम राव अम्बेडकर की प्रतिमा का अनावरण सोमवार को झज्जर रोड स्थित अंबेडकर पार्क में व्यवसायी डॉ. सुभाष चन्द्रा ने किया। यह आयोजन मिशन एकता समिति की प्रदेशाध्यक्ष कांता आलड़िया द्वारा किया गया। बतौर मुख्यअतिथि डॉ. सुभाष चन्द्रा ने कहा कि बुद्धम शरण गच्छामि। इसके बाद उन्होंने कहा कि 68 साल के शासन की गुलामी के बाद हिन्दुस्तानियों को मई 2014 से आजादी का सुकून महसूस हुआ। गौतम बुद्ध के आदर्शों पर चलने वाले डॉ. अम्बेडकर ने कभी सिद्धांतों के साथ समझौता नहीं किया। उन्होंने कहा कि यदि वैश्य समाज और दलित समाज एक मंच पर जाए तो देश में एक नई क्रांति का आगाज हो सकता है। विशिष्ट अतिथि प्रसिद्ध उद्योगपति राजेश जैन ने डॉ. भीमराव अम्बेडकर के दिखाए रास्तों पर चलने का आह्वान करते हुए कहा कि जिस प्रकार डॉ. सुभाष चन्द्र युवा पीढ़ी का मार्ग दर्शन कर रहे हैं, वह सराहनीय है।

मिशन एकता समिति की प्रदेशाध्यक्ष कांता आलडियां ने कहा कि रोहतक का शासन प्रशासन लोकप्रिय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सपनों पर पलीता लगाने पर तुला है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री खट्टर की घोषणा के बाद भी जिला प्रशासन ने बाबा साहब डॉ. भीम राव अम्बेडकर की प्रतिमा लगाने से साफ इंकार कर दिया। इस अवसर पर रविदास सभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल भारती, समता सैनिक दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष आत्माराम जोशी, बौद्ध भिक्षु राहुल बंते, डॉ. सुनील मलिक, देशराज, आजाद सिंह बुधवार, गुरदीप, कृष्णा राणा, आशु, मुकेश, लोकेश जैन मुख्य रूप से मौजूद रहे।

अंबेडकर पार्क में व्यवसायी सुभाष चंद्रा को स्मृति चिन्ह भेंट करती कांता आलड़िया व्यवसायी राजेश जैन।

खबरें और भी हैं...