• Hindi News
  • Haryana
  • Rohtak
  • महंत चांदनाथ के उत्तराधिकारी की घोषणा, रामदेव और योगी आदित्यनाथ हुए भावुक

बीमार महंत चांदनाथ के उत्तराधिकारी की घोषणा, रामदेव और योगी आदित्यनाथ हुए भावुक / बीमार महंत चांदनाथ के उत्तराधिकारी की घोषणा, रामदेव और योगी आदित्यनाथ हुए भावुक

महंत योगी चांदनाथ ने अपने शिष्य अलवर निवासी योगी बालकनाथ को मठ अस्थल बोहर का उत्तराधिकारी घोषित किया।

Bhaskar News

Jul 30, 2016, 04:53 AM IST
महंत चांदनाथ के उत्तराधिकारी की घोषणा, रामदेव और योगी आदित्यनाथ हुए भावुक
रोहतक. महंत योगी चांदनाथ ने अपने शिष्य अलवर निवासी योगी बालकनाथ को मठ अस्थल बोहर का उत्तराधिकारी घोषित किया। शुक्रवार को आयोजित समारोह में नाथ संप्रदाय के अनुसार वैदिक मंत्रों के बीच बालक नाथ को उत्तराधिकारी बनाने की रस्म अदायगी की गई।
बाबा मस्तनाथ के बाद शिष्य परंपरा में वे आठवें योगी हैं, जिन्हें यह सौभाग्य मिल रहा है। 31 वर्ष से इस गद्दी की सेवा कर रहे महंत चांदनाथ नौ माह पहले निमोनिया होने के बाद बीमारी से जूझ रहे हैं और शरीर से काफी कमजोर हो चुके हैं। इस वजह से ही वे अपने संसदीय क्षेत्र अलवर में भी समय नहीं दे पा रहे हैं। इस पावन अवसर पर योग ऋषि स्वामी रामदेव और गोरक्ष पीठाधीश्वर व गोरखपुर से सांसद योगी आदित्यनाथ उपस्थित रहे। इस दौरान सभी की आंखें आंसुओं से नम हो गई।

स्वामी रामदेव ने कहा कि जिस परंपरा से आज नाथ संप्रदाय को नया उत्तराधिकारी मिल रहा है, वह पुरातन गुरु-शिष्य परंपरा का ही स्वरूप है। वे वैदिक संस्कृति, वेद ज्ञान की पूर्ण शिक्षा योगी बालकनाथ को प्रदान करेंगे। गोरक्ष पीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने शुभ आशीर्वाद दिया। कहा कि संत समाज संप्रदाय की प्रगति में अपने प्रयासों को इसी प्रकार बनाए रखें। नाथ संप्रदाय ने जाति, वर्ण, रंग के आधार पर कभी भेद नहीं किया। मानव को ही नारायण रूप में समझा और अपनी परंपरा के अनुसार योग्य कंधों को नए समाज के साथ तालमेल के लिए अपना उत्तराधिकारी भी आज प्रदान कर दिया है।
भावुक मन को बताया पवित्रता का दर्पण

योगी बालक नाथ को स्नेहाशीष देते हुए वर्तमान महंत योगी चांदनाथ ने उनके भावुक मन को पवित्रता का दर्पण बताते हुए कहा कि उन्हें पूर्ण आशा है कि संप्रदाय की पवित्र परंपराओं का निर्वाह भविष्य में इसी प्रकार चलता रहेगा। स्वामी रामदेव ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की तरफ से भी शुभकामना भेजने के बारे में बताया। साथ ही सरकार की तरफ से प्रतिनिधि स्वरूप पहुंचे राव नरवीर का भी धन्यवाद किया। पूर्व विधायक राव नरेंद्र सिंह ने भी कार्यक्रम में पहुंचकर संतों का आशीर्वाद लिया।

धर्म के साथ शिक्षा का भी प्रकाश फैलाया

उत्तर भारत में चौरंगीनाथ की तपस्थली सारे भारत में प्रसिद्ध है। यह तपस्थली नाथ पंथ में एक महत्वपूर्ण गद्दी मानी जाती है। इस स्थान पर पंथ के बाबा मस्तनाथ ने घोर तपस्या की। इस स्थान का जीर्णोद्धार करके अस्थल बोहर मठ की स्थापना की। बीसवीं शदी में इस गद्दी के महंत श्रेयोनाथ जाने माने वैद्य और हरियाणा सरकार में मंत्री भी रहे। उन्होेंने वर्तमान महंत चांदनाथ को अपना उत्तराधिकारी बनाया, जो बाबा मस्त नाथ विश्वविद्यालय के कुलाधिपति, बाबा मस्त नाथ मठ के महंत तथा अलवर राजस्थान के सांसद भी हैं। योगी चांदनाथ का जन्म 21 जून 1956 को दिल्ली के बेगमपुर गांव के साधारण किसान परिवार में हुआ।
1977 में दिल्ली विश्वविद्यालय से बीए ऑनर्स की उपाधि प्राप्त की। 1978 में अस्थल बोहर मठ के महंत श्रेयोनाथ के शिष्य बने। उन्हें हनुमानगढ़ मठ के कोठारी का उत्तरादायित्व सौंपा। वर्ष 1984 में उन्हें अस्थल बोहर मठ का उत्तराधिकारी घोषित किया। श्रेयोनाथ के ब्रह्मलीन होने के बाद वर्ष 1985 में गद्दी संभाली। शिक्षा तथा चिकित्सा को कर्मक्षेत्र बनाते हुए वर्ष 1986 में ही स्कूल से इसकी शुरुआत की। 2012 में संस्थान को विश्वविद्यालय का दर्जा दिलवाया। यहां 150 करोड़ रुपए की लागत से अक्षरधाम की तर्ज पर मंदिर का निर्माण भी चल रहा है।

12 वर्ष की उम्र से बालक नाथ हैं सेवा में

योगी बालक नाथ का जन्म गांव कोहराणा बहरोड़ जिला अलवर में 1986 में हुआ। मात्र 12 वर्ष की आयु में इनके पारिवारिक सदस्य बाबा मस्तनाथ की मन्नत स्वरूप इन्हें नाथ संप्रदाय में दीक्षित करने हेतु समर्पित कर गए और तभी से वर्तमान महंत चांदनाथ के शिष्य रूप में योगी बालक नाथ सेवारत रहे हैं। बाबा मस्तनाथ पब्लिक स्कूल रोहतक से 9वीं क्लास तक की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद डेरा हनुमानगढ़ में 15 वर्षों से बालक नाथ कोठारी का कार्यभार संभालते रहे। यह वही डेरा है और पदभार है, जहां वर्तमान महंत चांदनाथ भी महंत बनने से पूर्व शिष्य स्वरूप अपने गुरु श्रेयोनाथ के आदेशानुसार कार्यरत थे।
आतंकवाद का समर्थन करने वाला देशभक्त नहीं: याेगी

गौरक्षा पीठाधीश्वर व भाजपा सांसद महंत योगी आदित्यनाथ ने प्रेसवार्ता में जम्मू-कश्मीर में सेना की कार्रवाई का समर्थन करते हुए कहा कि कश्मीर प्रायोजित आतंकवाद का समर्थन करने वाला सच्चा देशभक्त नहीं हो सकता। वे जेएंडके की सीएम के गुरुवार को कुर्बानी बर्बाद नहीं जाएगी बयान पर प्रतिक्रिया दे रहे थे। योगी ने कहा कि बुरहान आतंकवादी था। आतंकवादी के खिलाफ भारतीय सेना ने जो कार्रवाई की, वह जायज थी। पीस पार्टी के अध्यक्ष डॉ. अयूब द्वारा आतंकवादी कहने पर योगी आदित्यनाथ ने उन्हें कड़े व आपत्तिजनक शब्दों में चेतावनी दी। दरअसल, पीस पार्टी अध्यक्ष के इस बयान पर यूपी में बवाल मचा हुआ है। यूपी में सीएम के सवाल पर महंत आदित्यनाथ ने कहा कि पार्टी का संसदीय बोर्ड इस बात को तय करेगा। दयाशंकर के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि बसपा नेताओं की भी गिरफ्तारी होनी चाहिए।

कुलपति ने पढ़ा योगी चांदनाथ का पत्र

इसके पूर्व कार्यक्रम की शुरुआत एक संकल्प प्रक्रम से सिद्ध शिरोमणि बाबा मस्तनाथ की समाधि पर माथा टेकने से हुई। योगी बालक नाथ को नाथ संप्रदाय की सभी परंपराओं को बनाए रखने का संकल्प दिलवाने के बाद बाबा मस्तनाथ विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. मारकंडे ने महंत चांदनाथ की ओर से विचार पत्र पढ़ा।
ये संत-महात्मा उपस्थित रहे

इस अवसर पर आठ मानधारी पीर महंत, 32 धूनी के पंच गण, फतेहपुर शेखावाटी से आए महंत नरहरि नाथ, अंबाला के पारस नाथ, हरिद्वार योगी महासभा के महामंत्री महंत चेताईनाथ, बारह तथा अठारह के दोनों महंत कृष्णनाथ तथा महंत सोमनार नाथ, किन्नू से आए महंत सूरजनाथ, महा मंडलेश्वर बाबा कपिल पुरी, बाबा कर्णपुरी तथा डेरा बाबा मेहरशाह कलानौर के ईश्वर शाह आदि उपस्थित रहे।
महंत चांदनाथ के उत्तराधिकारी की घोषणा, रामदेव और योगी आदित्यनाथ हुए भावुक
महंत चांदनाथ के उत्तराधिकारी की घोषणा, रामदेव और योगी आदित्यनाथ हुए भावुक
X
महंत चांदनाथ के उत्तराधिकारी की घोषणा, रामदेव और योगी आदित्यनाथ हुए भावुक
महंत चांदनाथ के उत्तराधिकारी की घोषणा, रामदेव और योगी आदित्यनाथ हुए भावुक
महंत चांदनाथ के उत्तराधिकारी की घोषणा, रामदेव और योगी आदित्यनाथ हुए भावुक
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना