• Hindi News
  • Haryana
  • Rohtak
  • पहली बार मशीन पर बिगड़ा संतुलन, व्यंग्य ने बना दिया एशियन चैंपियन
--Advertisement--

पहली बार मशीन पर बिगड़ा संतुलन, व्यंग्य ने बना दिया एशियन चैंपियन

इस खेल में अभी एशियन चैंपियन है, जबकि इंडिया का एकमात्र खिलाड़ी है जिसने 7 घंटे में 71 किलोमीटर दौड़ ट्रेड मिल पर लगाई है।

Dainik Bhaskar

Jun 27, 2016, 05:50 AM IST
पहली बार मशीन पर बिगड़ा संतुलन, व्यंग्य ने बना दिया एशियन चैंपियन
झज्जर। 21वर्षीय युवा विशाल धनखड़ से शहर के लोग भले ही अपरिचित हों, लेकिन वो इन दिनों विश्व स्तर पर अलग ही पहचान अपने अनूठे खेल यानी ट्रेड मिल पर दौड़ने में बना रहा है। वर्ष 2015 में विशाल ने 12 घंटे में 107.24 किलोमीटर दौड़कर लिम्का बुक आॅफ रिकार्ड में नाम दर्ज कराया। इस खेल में अभी एशियन चैंपियन है, जबकि इंडिया का एकमात्र खिलाड़ी है जिसने 7 घंटे में 71 किलोमीटर दौड़ ट्रेड मिल पर लगाई है। विशाल का लक्ष्य अब अपनी 15वीं विश्व रैंकिंग में सुधार लाना है।

विशाल की इन उपलब्धियों के पीछे उसका जुनून और जज्बे की कहानी नजर आती है। झज्जर की पुलिस लाइन के पास रहने वाले प्रेम धनखड़ के पुत्र विशाल ने 11वीं तक शिक्षा सोनीपत के राई स्पोर्ट्स स्कूल में ली है। विशाल बताता है कि एक दिन स्कूल में फिल्म अभिनेता रणवीर हुड्डा आए और बच्चों से कहा कि जीवन में कुछ ऐसा करके दिखाओ जो किसी ने किया हो, तभी भीड़ में पहचाने जाओगे।

विशाल की इच्छा अब विश्व का नंबर एक खिलाड़ी बनने की : विशालने बताया कि 2 साल पहले वो अपने दोस्त के साथ दिल्ली की एक जिम में गया, यहां ट्रेड मिल पहली बार देखी। शौक-शौक में विशाल मशीन पर खड़ा हुआ तो संतुलन बिगड़ गया। तब लोगों ने व्यंग्य कसा कि राई स्पोर्ट्स स्कूल का खिलाड़ी अपना संतुलन ही नहीं बना पा रहा, तब विशाल ने निश्चय कर लिया कि मशीन की गति को वश में करके रहेगा। अब मात्र 2 साल की अपनी प्रेक्टिस में विशाल के नाम 3 खिताब हैं। वो विश्व में अपनी इस ट्रेड मिल दौड़ को लेकर 15वें स्थान पर चुका है। एशियन चैंपियन वो है। वहीं इंडिया का कम उम्र का पहला खिलाड़ी है जिसने 71 किलोमीटर का रन महज 7 घंटे में पूरी की। विशाल ने बताया कि उसकी इच्छा अब विश्व का नंबर एक खिलाड़ी बनने की है। ये खिताब अभी यूएसए के डीन कार्नाडिस के पास है।
ट्रेड मिल नहीं है, मैदान पर दौड़ लगाकर जाता है मशीन पर
अहमयह है कि विशाल के पास प्रेक्टिस करने के लिए निजी तौर पर ट्रेड मिल नहीं है। वह किसी भी स्पर्धा में भाग लेने से पहले सड़क मैदानों पर जमकर पसीना बहाता है फिर ट्रेड मिल पर परफोरमेंश देता है। एमबीए की पढ़ाई कर रहे विशाल ने कहा कि उसकी इच्छा हर साल यूएसए में होने वाली 217 किलोमीटर की अल्ट्रा रन में भाग लेना है। ये 52 डिग्री तापमान में होती है। भारत की ओर से इसमें अब तक अरुण भारद्वाज ही क्वालीफाई कर सके हैं।
ये है ट्रेड मिल मशीन दौड़
आमतौर ट्रेड मिल मशीन का उपयोग स्टेमना बढ़ाने चर्बी घटाने के लिए किया जाता है। ये प्रतियोगिताएं यूरोप के देशों में है होती हैं। इस मशीन पर 15 किलोमीटर की दौड़ लगाने वाले व्यक्ति को बेहतर रनर माना जाता है।
आगे की स्लाइड्स में देखें फोटोज
पहली बार मशीन पर बिगड़ा संतुलन, व्यंग्य ने बना दिया एशियन चैंपियन
X
पहली बार मशीन पर बिगड़ा संतुलन, व्यंग्य ने बना दिया एशियन चैंपियन
पहली बार मशीन पर बिगड़ा संतुलन, व्यंग्य ने बना दिया एशियन चैंपियन
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..