पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Mdiu Scam Followup: Maratha Dusted The Pan, Not Uttering Sent Copies

एमडीयू घोटाला फॉलोअप: मराठा ने भी झाड़ा पल्ला, बोले नहीं भेजीं कॉपियां

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

रोहतक. महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी के उत्तर पुस्तिका घोटाले में विवि अधिकारियों के बाद गोपनीय शाखा अधीक्षक सुरेंद्र मराठा ने भी पल्ला झाड़ लिया है। मामले में गिरफ्तार मराठा ने पुलिस को दो टूक कहा है कि उसके पास एक साथ सभी उत्तर पुस्तिकाएं भेजी ही नहीं गई।

ऐसे में वे जांच के लिए बाहर सभी उत्तर पुस्तिका कैसे भेज सकते थे। अब पुलिस उन कर्मचारियों से पूछताछ करेगी, जिनकी जिम्मेदारी गोपनीय शाखा के अंदर उत्तर पुस्तिकाएं पहुंचाने की रही है।

इससे पहले, पुलिस ने विवि प्रशासन को पत्र भेजकर पूछा कि गोपनीय शाखा में पहुंची इंजीनियरिंग की 1132 उत्तर पुस्तिकाएं एक साथ जांच के लिए क्यों नहीं भेजी गई।

शनिवार को विवि प्रशासन ने लिखित जवाब दिया कि गोपनीय शाखा के अधीक्षक सुरेंद्र मराठा की जिम्मेदारी रही कि सभी कॉपी जांच के लिए एक साथ बाहर भेजी जाएं। इस बारे में वही जवाब दे सकते हैं।


विवि प्रशासन के जवाब के बाद जब पुलिस ने मामले में छह दिन के रिमांड पर चल रहे गोपनीय शाखा अधीक्षक सुरेंद्र मराठा से यह सवाल किया तो उन्होंने कहा कि पहली बार 612 व दूसरी बार 520 उत्तर पुस्तिका शाखा में पहुंची।

ऐसे में एक साथ कैसे जांच के लिए भेजा जा सका है। अब दो बार उत्तर पुस्तिका शाखा में क्यों पहुंचाई गई, यह तो संबंधित कर्मचारी ही बता सकते हैं।


गोपनीय शाखा में अव्यवस्था
मामले से जुड़े तथ्यों को उजागर करने के लिए रविवार को भी पुलिस ने एक दर्जन छात्र व विवि के तीन कर्मचारियों से गहन पूछताछ की गई। मामले की जांच कर रही एसआईटी के एक सदस्य ने बताया कि अब तक जांच से यह जरूर साफ हो गया है कि गोपनीय शाखा के अंदर उत्तर पुस्तिकाएं जांचने की व्यवस्थित प्रक्रिया नहीं है।

मामले में पुलिस के हाथ कई अहम तथ्य हाथ लगे हैं। जल्द कई अन्य कर्मचारी भी हो सकती हैं। उधर, रविवार को भी एक दर्जन छात्रों व तीन कर्मचारियों से पुलिस ने पूछताछ की।