पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रेल बजट : गोहाना लाइन होगी बाहर, शहरवासियों को मिलेगी जाम से मुक्ति

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रोहतक. रेल बजट में गोहना-रोहतक लाइन को शहर से बाहर करने की घोषणा के साथ ही शहर के बीचोंबीच से इस रेलवे लाइन पर स्थित चार रेलवे फाटकों पर लगने वाले जाम से मुक्ति मिलने का रास्ता साफ हो गया है।
करीब आठ किलोमीटर लंबी इस रेलवे लाइन को शहर से बाहर निकालने के लिए नए रेल बजट में 160 करोड़ रुपए की मंजूरी दी गई है।
बजट में जींद रेलवे लाइन पर समर गोपालपुर गांव के पास से पानीपत रेलवे लाइन के मकड़ौली हाल्ट से जोड़ने का प्रस्ताव है। इसके बाद मकड़ौली हाल्ट को भी स्टेशन का दर्जा मिल जाएगा।
गुजरती हैं दस यात्री गाड़ियां
पानीपत रेलवे लाइन पर श्रीनगर कॉलोनी, बजरंग भवन, सोनीपत रोड व बस स्टैंड के पास चार मुख्य फाटक हैं। इसके अलावा सेक्टर पांच में भी फाटक हैं। इस रास्ते से दस यात्री गाड़ियों के अलावा दर्जन भर मालगाड़ियां गुजरती हैं। इससे बस स्टैंड फाटक, सोनीपत रोड व बजरंग भवन फाटकों पर घंटों तक लंबा जाम लग जाता है। गाड़ियों गुजरने के काफी देर बाद तक भी वाहन जाम में फंसे रहते हैं। नई परियोजना पूरी होने के बाद इससे निजात मिल जाएगी।
9 किमी. बढ़ेगा रेल का सफर
नई रेलवे लाइन डलने के बाद पानीपत का सफर कुछ लंबा हो जाएगा। रोहतक रेलवे जंक्शन से मकड़ौली स्टेशन करीब आठ किलोमीटर दूर है। नई लाइन समर गोपालपुर के पास से निकलेगी, जो स्टेशन से करीब सात किलोमीटर दूर है। यहां से मकड़ौली स्टेशन तक करीब दस किलोमीटर लंबी लाइन डालनी पड़ेगी। इससे रोहतक से पानीपत की दूरी करीब 9 किलोमीटर बढ़ जाएगी।
मकड़ौली भी बनेगा स्टेशन
फिलहाल मकड़ौली एक रेलवे हाल्ट है। इस लाइन से जुड़ने के बाद यह स्टेशन बन जाएगा। रेलवे ने झज्जर-रेवाड़ी ट्रेन को भी पानीपत से जोड़ने की योजना बनाई है। इसके बाद रोहतक-रेवाड़ी ट्रेन का विस्तार पानीपत तक किया जा सकता है।
ट्रैक के स्थान पर बनेगा माल रोड: सांसद दीपेंद्र
रेल बजट की घोषणाओं से गदगद सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने कहा कि पानीपत रेलवे लाइन शहर के अंदर से हटने के बाद इसी जमीन पर माल रोड बनाया जाएगा। इससे सेक्टर पांच, बस स्टैंड के पास का क्षेत्र सीधा शहर से जुड़ जाएगा। शहर के लोगों को इससे जबरदस्त फायदा होगा। करीब पांच किलोमीटर लंबे माल रोड के दोनों ओर मार्केट विकसित की जाएगी। सांसद दीपेंद्र हुड्डा ने दैनिक भास्कर को बताया कि रेलवे लाइन के स्थान पर माल रोड बनाने की योजना तैयार कर ली गई है। उन्होंने बताया कि प्रस्तावित रेलवे बाईपास पूरे क्षेत्र में अपनी तरह की पहली परियोजना होगी।
दुकानदारों को मिलेगी राहत
ञ्चरेलवे लाइन पर रेलवे ओवरब्रिज (आरओबी) बनाने की योजना कई बार बनी, लेकिन दुकानदारों के विरोध के चलते यह योजना सिरे नहीं चढ़ पाई। अब रेलवे लाइन शहर से बाहर निकलने के बाद दुकानदारों को भी पुलों की तलवार से राहत मिल जाएगी।
परियोजना पहले बनती तो बचते करोड़ों
ञ्चपानीपत रेलवे लाइन को शहर से बाहर निकालने की परियोजना यदि कुछ समय पहले बनती तो सेक्टर पांच के पास रेलवे ओवरब्रिज की जरूरत ही नहीं पड़ती। इससे करोड़ों रुपए बचाए जा सकते थे।
रोहतक-रेवाड़ी के बीच दूसरी ट्रेन
ञ्चरोहतक-रेवाड़ी के बीच एक और ट्रेन चलाई जाएगी। फिलहाल इस रूट पर एक ही ट्रेन चल रही है। इस गाड़ी का समय भी सही नहीं है। इससे इस गाड़ी को यात्री नहीं मिल पा रहे हैं। नई डीजल मल्टीपल यूनिट (डीएमयू) चलने पर इस रूट के यात्री को
लाभ होगा।