पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • End The Strike, Losing Billions, Relief Will Today

हड़ताल खत्म, करोड़ों का नुकसान, आज मिलेगी राहत

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शिमला। ट्रेड यूनियनों की हड़ताल के चलते वीरवार को भी बैंकों और एलआईसी कार्यालयों में कामकाज ठप रहा। हालांकि सभी एटीएम खुले थे। एटीएम में पैसा न होने के कारण लोगों को कई बैंकों के एटीएम के चक्कर काटने पड़े।
बैंक यूनियनों के अनुसार दो दिन तक चली इस हड़ताल से प्रदेश में करीब 1400 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। हर दिन बैंकों में करीब 700 करोड़ रुपए का कारोबार ठप रहा।
विरोध में की नारेबाजी
इनमें बद्दी, बरोटीवाला औद्योगिक क्षेत्र में कारोबार को अधिक नुकसान उठाना पड़ा। प्रदेश में विभिन्न बैंकों के करीब 40 हजार कर्मचारी वीरवार को भी हड़ताल पर रहे। वीरवार को बैंक कर्मचारियों ने मालरोड स्थित एलआईसी ऑफिस के बाहर नारेबाजी की। सीटू ने भी केंद्र की नीतियों के खिलाफ खूब हल्ला बोला।
पूंजीपतियों को दी छूट
सीटू के सचिवालय सदस्य विजेंद्र मेहरा ने कहा कि केंद्र सरकार एक ओर पूंजीपतियों को तो टैक्स में छूट दे रही है जबकि गरीबों को महंगाई झेलनी पड़ रही है। केंद्र की यूपीए सरकार की जनता विरोधी नीतियों के चलते देश के करीब 85 करोड़ लोग हर रोज महज 20 रुपए में गुजारा करने को मजबूर हैं। केंद्र की यूपीए सरकार के कारण महंगाई बढ़ी है, जिससे लोगों को गुजारा करना मुश्किल हो रहा है।
बैंकिंग रिफॉर्म रोके सरकार
मालरोड स्थित एलआईसी के ऑफिस के बाहर बैंक कर्मचारियों ने नारेबाजी की। इस दौरान एनसीबीई के आदर्श मोहन, एलआईसी से पंकज सूद और हिमाचल प्रदेश बैंक इंप्लाइज फेडरेशन से उपप्रधान शशि शर्मा ने रैली को संबोधित किया। इन्होंने बैंक कर्मियों के वेज रिवीजन के मुद्दे को जल्द निपटाने, नई पेंशन स्कीम वापस लेने, आउटसोर्सिग रोकने, महंगाई पर लगाम लगाने, बैंकिंग रिफॉर्म रोकने की मांग की।
बैंककर्मियों ने दिया धरना
यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन हिमाचल प्रदेश से जुड़े नौ बैंकों की शाखाओं के कर्मचारियों ने कालीबाड़ी के पास प्रदर्शन किया। इसमें फोरम के रामेश्वर दत्ता, हरदेव गर्ग, एसपी वर्मा, प्रेम वर्मा, सीएस वर्मा, नरेंद्र शर्मा, गोपाल शर्मा, सरदारी लाल, अरुण शर्मा, गौरी शंकर और डीआर गुप्ता आदि ने कर्मियों को संबोधित किया और सरकार से मांगें पूरी करने की मांग की।