• Hindi News
  • धर्मशाला गैंगरेप: एमएलए के बेटे ने सोशल मीडिया पर फैलाई खबर

धर्मशाला गैंगरेप: एमएलए के बेटे ने सोशल मीडिया पर फैलाई खबर

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
धर्मशाला। धर्मशाला गैंगरेप की खबर सोशल मीडिया पर फैलाकर प्रदेश की छवि खराब करने के पीछे कांग्रेस के ही एक एमएलए के बेटे का नाम सामने आ रहा है। पुलिस के पास ऐसे सबूत हैं जिनसे सािबत होता है कि विधायक के बेटे ने न सिर्फ सोशल मीडिया पर रेप की झूठी खबर फैलाई बल्कि इसके लिए विरोधी पार्टी का भी साथ दिया।
मकसद धर्मशाला से विधायक व राज्य के शहरी विकासमंत्री सुधीर शर्मा की छवि को खराब करना था। मामले में शर्मा के भतीजे या भांजे के शामिल होने की खबर फैलाई गई। इसके बाद एबीवीपी ने विरोध प्रदर्शन किए। दबाव बढ़ता देख पुलिस ने बुधवार को केस दर्ज कर लिया।
वीरवार को दोनों युवतियों को उनके घर से लाया गया। बयान दर्ज किए गए। शिकायतकर्ता की इंटेरोगेशन में प्रदेश के पूर्व मंत्री के करीबी का नाम सामने आया। और सबूत जुटाने के लिए पुलिस ने एबीवीपी नेता गर्वित शर्मा की कॉल डिटेल्स भी खंगालनी शुरू की हैं क्योंकि उसने ही सोशल मीडिया पर खबर आने के बाद सबसे पहले एक्शन लिया था।
पुलिस जानती थी कोई गैंगरेप नहीं हुअा
पुलिस को बुधवार को ही पता चल गया था कि कोई गैंगरेप नहीं हुआ है। केस इसलिए दर्ज किया गया ताकि अफवाह फैलाने वाले को गिरफ्तार किया जा सके। इसके बाद पुलिस ने धर्मशाला कॉलेज के प्रिंसिपल और चार छात्रों को हिरासत में लेकर उनके बयान दर्ज किए। प्रिंसिपल ने बताया कि एक लड़की ने उनसे कहा था कि उसकी बहन के साथ गैंगरेप हुआ है। वह आईजीएमसी में भर्ती है। इसके बाद पुलिस ने एबीवीपी के चार समर्थकों से पूछताछ की। तब उन्होंने शिकायतकर्ता लड़की का पता बता िदया। पुलिस ने वीरवार को दोनों लड़कियों को उनके घर से उठा लिया। इसके बाद शिकायतकर्ता लड़की ने बताया कि उसे किस-किस ने मामला फैलाने के लिए उकसाया। जब जांच की सूई मंत्री के बेेटे तक पहुंची तो मामले को दबा दिया गया।
मेडिकल से इनकार
दोनों लड़कियों को वीरवार को सीजेएम के सामने पेश किया गया। कथित पीड़िता ने मेडिकल करवाने से इनकार कर दिया। उसने कहा कि उसके साथ गैंगरेप नहीं हुआ। वहीं शिकायतकर्ता ने बयान दिए कि उसे पीड़िता ने कहा था कि वह प्रिंसिपल से शिकायत करे कि उसके साथ गैंगरेप हुआ है।
मेरी छवि खराब करने की साजिश है। मेरा धर्मशाला से विधायक बनना अपने ही करीबियों को खटक रहा है। मेरे भांजे या भतीजे के इसमें शामिल होने की बात कही। जबकि मेरा न तो भांजा है और न ही भतीजा।
-सुधीर शर्मा, कैबिनेट मंत्री
गैंगरेप नहीं हुआ है। कोई जानबूझकर इसमें किसी को बदनाम करने की कोशिश कर रहा है। मामले में अपना हो या पराया उसे बख्शा नहीं जाएगा। मैंने पुलिस को तह तक जाने को कहा है क्याोंकि इससे राज्य की छवि खराब हुई है। वीरभद्र सिंह, सीएम