• Hindi News
  • Pakistan Army Crossed The Limits Of Brutality Virbhadra

पाकिस्तान सेना ने लांघी बर्बरता की हदें : वीरभद्र

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
धर्मशाला। धर्मशाला के तपोवन स्थित विधानसभा भवन में मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने राज्यपाल के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव में कहा कि प्रदेश का किसान बंदरों के उत्पात से परेशान है। यह एक गंभीर समस्या है। पूर्व सरकार ने इस दिशा में कार्यक्रम तो बनाए, लेकिन उन्हें व्यवहारिक रूप देने में पूरी तरह नाकाम रही।
कांग्रेस सरकार इस दिशा में ठोस प्रयास करेगी और लोगों के सुझाव एवं विशेषज्ञों की मदद से नीति तैयार कर स्थायी समाधान निकाला जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य के बहुमूल्य पर्यावरण के संरक्षण एवं संवर्धन के प्रति कृतसंकल्प है। अगले पांच वर्षो में पर्यावरण संरक्षण के क्षेत्र में और नए कदम उठाए जाएंगे।
विधानसभा की झलकियां
> वीवीआईपी दीर्घा में कांगड़ा-चंबा संसदीय क्षेत्र के सांसद डॉ. राजन सुशांत कार्रवाई शुरू होते ही विराजमान थे।
> सदन की कार्रवाई देखने पहुंचे पूर्व न्यायाधीश सुरेश चौधरी।
> दर्शक दीर्घा अंतिम दिन की कार्रवाई देखने के लिए खचाखच भरी रही।
> विपक्ष व सत्ता पक्ष में हुई हलकी नोक -झोंक के बाद सामान्य रही सदन की कार्रवाई।
> वीरभद्र सिंह बोले अभी तो अवॉर्डो की जानकारियां की है एकत्रित, 20 सूत्रीय कार्यक्रम व अन्य सरकारी कार्यक्रमों की जांच करने के बाद स्पष्ट करूंगा तथ्य।
550 करोड़ का ऋण स्वीकृत
सीएम ने कहा कि प्रदेश सरकार को विश्व बैंक द्वारा 550 करोड़ रुपए का ऋण स्वीकृत किया गया है। विश्व बैंक ने भारत सरकार को बिना किसी अनुदान के दिया है, लेकिन इसके बावजूद केंद्र सरकार ने प्रदेश को इसका 90 फीसदी यानी 500 करोड़ रुपए अनुदान के रूप में जारी किया है। जिसके लिए भारत सरकार के आभारी हैं। यह पहला मौका था जब हिमाचल विधानसभा में किसी भी केंद्रीय योजना की स्वीकृति के बाद आभार प्रकट किया गया।
विश्वसनीयता आवश्यक
मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि सदस्यों ने राज्यपाल के अभिभाषण पर चर्चा के दौरान पिछले कुछ वर्षो में राज्यों को मिले अवॉडरें के बारे में विस्तृत चर्चा की है। इसमें कोई संदेह नहीं कि यह सम्मान विशिष्ट व्यक्तियों द्वारा दिए जाते हैं, लेकिन इनका निर्णय करने वाली संस्थाओं की विश्वसनीयता समझना आवश्यक है।
पाकिस्तान सेना ने लांघी बर्बरता की हदें : वीरभद्र
मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिला के मेंडर सेक्टर के मनकोट इलाके में नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी सेना ने एक बार फिर बर्बरता की हदें पार करते हुए सीमा लांघ कर दो भारतीय सैनिकों लांस नायक हेमराज तथा लांस नायक सुधाकर सिंह की निर्मम हत्या कर दी। इस बर्बरतापूर्ण एवं नृशंस हत्या पर जहां सारा देश शोकाकुल है, वहीं यह सदन भी इस पर गहरा दुख प्रकट करता है और इन शहीदों के परिवारों के प्रति अपनी हार्दिक संवेदना प्रकट करता है। पाकिस्तान सेना के इस अमानवीय कृत्य की जितनी घोर निंदा की जाए, उतनी कम है। वीरभद्र सिंह ने कहा कि मैं सदन के माध्यम से प्रदेशवासियों की ओर से इन शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं तथा ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि शोक संतप्त परिवारों को इस क्षति को सहने की शक्ति प्रदान करे।
2297 लोगों ने देखी सदन की कार्रवाई
चार दिवसीय शीतकालीन सत्र के दौरान 40 अति विशिष्ट लोगों सहित 2297 आगुंतकों ने सदन की कार्रवाई देखी। विधानसभा सचिव की ओर से सदस्यों की संस्तुति के आधार पर चार दिवसीय सत्र के दौरान कुल 2297 पास जारी किए गए। जिनमें 1081 जनरल पास, 405 कैजुएल पास, 40 वीवीआई पास और 771 पास स्पीकर गैलरी के लिए जारी किए गए। सत्र के दौरान आल इंडिया कांग्रेस कमेटी महासचिव एवं प्रदेश कांग्रेस प्रभारी चौधरी वीरेंद्र सिंह, सह-प्रभारी अनीस अहमद, विधानसभा अध्यक्ष बृज बिहारी बुटेल के परिजनों सहित कांगड़ा संसदीय क्षेत्र के सांसद डॉ. राजन सुशांत ने सदन की कार्रवाई देखी। सत्र समाप्ति पर मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने विपक्ष के नेता प्रेम कुमार धूमल सहित विपक्षी सदस्यों का सदन की कार्रवाई के सुचारु संचालन में सहयोग के लिए आभार जताया।
हलकी नोक-झोंक के साथ सत्र संपन्न
बारहवीं विधानसभा का प्रथम शीतकालीन सत्र शुक्रवार को हलकी नोक-झोंक व हंसी के ठठोलों के साथ संपन्न हो गया। नवगठित कांग्रेस सरकार के प्रथम शीतकालीन सत्र के दौरान नवनिर्वाचित विधायकों का शपथ ग्रहण समारोह धर्मशाला के तपोवन स्थित विधानसभा भवन में आयोजित किया गया।
सत्र के दौरान पालमपुर के विधायक बृज बिहारी बुटेल सर्वसम्मति से निर्विरोध प्रदेश विधानसभा के 15वें विधानसभा अध्यक्ष चुने गए। सत्र के अंतिम दिन मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने पर्यावरण संरक्षण, आवारा पशुओं, बंदरों के उत्पात और विभिन्न अवॉर्डो के मुद्दे पर विपक्ष को घेरकर अपनी सरकार की प्राथमिकताएं गिनाईं। वीरभद्र सिंह ने सदस्यों को आश्वस्त किया कि आगामी बजट सत्र में अभिभाषण के माध्यम से सरकार की पांच वर्ष की कार्ययोजनाओं की पूर्ण रूपरेखा पेश की जाएगी।
उन्होंने यह संकल्प लिया कि आगामी पांच वष्रो मंे प्रदेश को पर्वतीय विकास का आदर्श बनाने के साथ ही हम एक पूर्णत: विकसित राज्य बनाएंगे। वीरभद्र सिंह ने कहा कि मुझे दुख इस बात है कि हमें औद्योगिक क्षेत्र के अंदर जो विशेष सुविधाएं दी गई थी, जिससे हमें वंचित किया गया है। यह किसी आर्थिक आधार पर नहीं किया गया है, यह महज पड़ोसी राज्यों ने इसके बारे में शिकायत की, इसके बारे में एक मुहिम चलाई कि हिमाचल प्रदेश को जो औद्योगिक पैकेज मिला है, उसकी वजह से पड़ोसी राज्यों में औद्योगिक विकास रुक गया है। वहां पर जो औद्योगिक इकाईयां हैं वह प्रदेश के लिए पलायन कर रही हैं, जबकि यह सच्चाई नहीं है। उन्होंने कहा कि कोशिश होगी कि प्रदेश को औद्योगिक पैकेज मिले।