• Hindi News
  • Youth Congress Election, Himachal, Shimla, Latest News

विक्रमादित्य सिंह लड़ सकेंगे यूथ कांग्रेस का चुनाव

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
शिमला. हिमाचल प्रदेश यूथ कांग्रेस प्रदेश कार्यकारिणी की चुनाव प्रक्रिया आठ नवंबर तक पूरी कर दी जाएगी। इस चुनाव में मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के बेटे विक्रमादित्य सिंह भी चुनाव लड़ सकेंगे। पिछली बार हुए चुनाव में विक्रमादित्य को चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन का दोषी पाए जाने पर अध्यक्ष पद के अयोग्य घोषित किया गया था। इस कारण वह दूसरी बार अध्यक्ष पद के लिए करवाए गए चुनाव को नहीं लड़ पाए थे। यूथ कांग्रेस के चुनाव में बूथ स्तर से करीब 10,000 का चयन किया जाएगा। यह प्रक्रिया अक्टूबर माह से शुरू होगी। चुनाव 7,210 बूथों पर करवाए जाएंगे। इसके बाद सभी 68 विधानसभा क्षेत्रों और चार लोकसभा क्षेत्रों के लिए चुनाव होंगे। विधानसभा और लोकसभा चुनाव के बाद प्रदेश कार्यकारिणी के चुनाव होंगे।
क्या था विवाद
दो साल पहले हुए चुनाव में विक्रमादित्य को अध्यक्ष चुना गया था, लेकिन उन पर चुनाव आचार संहिता उल्लंघन का आरोप लगा। आरोप फेमा ने सही पाए, जिसके बाद उन पर दो साल के लिए प्रतिबंध लगा दिया गया।
आईवाईसी इलेक्शन कमिश्नर ने की घोषणा
प्रदेश में यूथ कांग्रेस चुनाव प्रक्रिया आरंभ करने की घोषणा सोमवार को इंडियन यूथ कांग्रेस के इलेक्शन कमिश्नर आरपी बिष्ट ने की। यहां आईवाईसी की तरफ से प्रदेश के लिए नियुक्त किए गए चुनाव अफसर जगदीप सिंह संधू मौजूद थे।
तय किए मापदंड
>आयु 18 से 35 साल
>29 सितंबर तक होगी सदस्यता
>सामान्य श्रेणी सदस्यता शुल्क रु.15
>आरक्षित/महिला वर्ग सदस्यता शुल्क 5 रुपए
>2 साल के लिए बनेगी नई कार्यकारिणी
>स्टेट कार्यकारिणी में पिछली बार चुनाव लड़ा प्रत्याशी योग्य
>8 नवंबर से तक गठित होगी प्रदेश कार्यकारिणी
>आपराधिक पृष्ठभूमि वाला चुनाव नहीं लड़ेगा।