पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

\'भीगे होंठ तेरे प्यासा दिल मेरा\'

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
टीचर: प्रसंग सहित व्याख्या करो......
“ भीगे होंठ तेरे प्यासा दिल मेरा”
स्टूडेन्ट: “ये पंक्ति बॉलीवुड के प्रसिद्ध कवि संत इमरान हाश्मी जी की रचना ‘मर्डर’ के 'भीगे होंठ तेरे’ गीत से ली गई है। इस कविता में कवि मायावी मल्लिका शेरावत को संबोधित कर पानी का महत्व समझाते हुए कहते हैं कि अगर आपके होंठ पर 1 बूंद भी पानी हो तो सामने जो भी प्यासा है उसे पिला दो...।
और इन पंक्तियों से हमें कवि के दयालु होने का अहसास होता है।
गुरु इमरान हाश्मी की जय!!!