2016 का लिट्रेचर का नोबेल प्राइज अमेरिकी सिंगर-राइटर बॉब डिलन को मिलेगा

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्टॉकहोम. अमेरिकी गीतकार बॉब डिलन को इस साल का साहित्य का नोबेल दिया जाएगा। 1901 से अब तक 115 साल में 109 शख्सियतों को यह नोबेल मिला। लेकिन ऐसा पहली बार होगा जब किसी गीतकार को साहित्य के नोबेल के लिए चुना गया है। प्राइज के साथ डिलन को करीब 6 करोड़ 20 लाख रुपए मिलेंगे। डिलन ने 54 साल के करियर में 650 से ज्यादा गाने गाए और लिखे। उन्हें अमेरिकी गीत परंपरा में उनके योगदान को लेकर नोबेल के लिए चुना गया है। बता दें कि 1997 में इटली के डारियो फो को भी साहित्य का नोबेल मिला था। डारियो भी डिलन की तरह गीतकार थे, लेकिन ड्रामा राइटर की भूमिका के लिए उन्हें नोबेल दिया गया था। उनका 90 साल की उम्र में गुरुवार को ही निधन हुआ है। कौन हैं डिलन.. ज्यूरी ने क्या कहा...
- ज्यूरी ने कहा, “75 साल के रॉक लीजेंड डिलन एक शानदार उदाहरण हैं। उन्होंने 54 साल तक खुद की ही खोज जारी रखी। वो बेहतरीन सोच वाले शख्स हैं। डिलन ने अमेरिका की महान गीत परंपरा में कविता की नई अभिव्यक्ति लाने का काम किया।”
- बॉब का जन्म 1941 में अमेरिका में हुआ। 1959 में मिनिसोटा के एक कॉफी हाउस से म्यूजिक करियर शुरू किया। डिलन 1960 के दशक में बेहद मशहूर हुए। उन्हें अमेरिका की दिक्कतें बताने वाला अनौपचारिक इतिहासकार भी कहा जाता है।
- डिलन ने 54 साल में 70 एलबम निकाले। 653 गाने गाए और लिखे। 6 किताबें खुद लिखीं।
- पहले भी कुछ वर्षों तक नोबेल के लिए बॉब डिलन के नाम की चर्चा रही लेकिन उन्हें नहीं चुना गया।
जंग के खिलाफ संगीत
- ‘ब्लोविन इन द विंड और द टाइम्स दे आर ए चेंज इन’ जैसे सॉन्ग्स को अमेरिका में जंग के खिलाफ और सिविल राइट्स मूवमेंट के प्रतीक के तौर पर देखा जाता है।
- बॉब के बारे में कहा जाता है कि वो परंपरा के खिलाफ अलग तरह के गाने लिखते और गाते हैं। इसकी वजह से वो कई बार विवादों में भी रहे।
कभी हिटलर से प्रभावित थे, गिटार बजाने का तरीका बदलने पर विरोध भी झेला
- बॉब डिलन ने अकॉस्टिक सिंगर और सॉन्ग राइटर के तौर पर करियर शुरू किया था। कहा जाता है कि शुरुआती वर्षों में बॉब डिलन जर्मन तानाशाह हिटलर से बेहद प्रभावित थे।
- 1965 के फोक फेस्टिवल में वे तब कॉन्ट्रोवर्सी में आ गए जब उन्होंने अपनी अकॉस्टिक गिटार अलग रख दी और इलेक्ट्रिक गिटार से परफॉर्मेंस दी। इस फेस्टिवल में लोगों ने बॉब डिलन के खिलाफ हूटिंग भी की। लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी।
- 1966 में उनका एक्सीडेंट हो गया। माना गया कि वे शोहरत का दबाव महसूस कर रहे थे। इसलिए उन्होंने इस हादसे के बारे में हकीकत कभी सामने नहीं आने दी। एक्सीडेंट के बाद 8 साल तक उन्होंने कोई टूर नहीं किया।
लिट्रेचर का नोबेल देरी से अनाउंस क्यों हुआ?
- लिट्रेचर का नोबेल साइंस के नोबेल के साथ ही अनाउंस किया जाता है लेकिन इस साल ये करीब एक हफ्ते बाद अनाउंस किया गया। स्वीडिश मीडिया इस पर सवाल उठा रहा है लेकिन ज्यूरी इसे कैलेंडर इश्यू इनकार कर रही है।
- पूछा जा रहा है कि अनाउंसमेंट में देरी क्यों हुई? क्या ज्यूरी मेंबर्स में बॉब डिलन को लेकर मतभेद थे या कोई और बात थी?
- स्वीडन के कल्चरल जर्नलिस्ट बिजोर्न वाइमैन ने कहा- मेरे हिसाब से ज्यूरी की सफाई गलत है। वो कह रही है कि कैलेंडर इश्यू की वजह से अनाउंसमेंट लेट हुआ। ज्यूरी के 18 मेंबर्स के बीच सीरिया के एक कवि को लेकर आमराय नहीं बन पाई। वो विवादित हैं और इस्लाम पर राजनीति को लेकर उन्होंने काफी कुछ लिखा है।
- हालांकि, 2005 में भी लिट्रेचर का नोबेल देरी से अनाउंस किया गया था। तब ये कहा गया था कि सियासी वजहों के चलते ओरहान पामुक का नोेबेल खतरे में पड़ गया है। बाद में ये प्राइज हारोल्ड पिंटर को दिया गया था।
खबरें और भी हैं...