• Hindi News
  • International
  • पाकिस्तान से एक और युद्ध से भारत को क्षति ज्यादा: NYT

पाकिस्तान के साथ वॉर से भारत को ज्यादा नुकसान: न्यूयॉर्क टाइम्स / पाकिस्तान के साथ वॉर से भारत को ज्यादा नुकसान: न्यूयॉर्क टाइम्स

लिखा है- भारत अपेक्षाकृत ज्यादा पावरफुल व अधिक सफल देश है। लेकिन एक और युद्ध होने पर उसे ज्यादा नुकसान पहुंच सकता है।

Agency

Aug 20, 2015, 03:28 PM IST
पीएम नरेंद्र मोदी और नवाज शरीफ। (फाइल फोटो : 26 मई 2014, जब मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी।) पीएम नरेंद्र मोदी और नवाज शरीफ। (फाइल फोटो : 26 मई 2014, जब मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी।)
न्यूयॉर्क. अमेरिका के मशहूर अखबार न्यूयॉर्क टाइम्स (NYT) का मानना है कि एटमी ताकत से लैस भारत और पाकिस्तान के बीच अगर एक और लड़ाई हुई तो पाकिस्तान के मुकाबले भारत को ज्यादा नुकसान हो सकता है।
भारत ज्यादा ताकतवर लेकिन उसे नुकसान का भी खतरा
न्यूयॉर्क टाइम्स में 'द नीड फॉर रेस्ट्रेंट इन कश्मीर' टाइटल से पब्लिश हुए एडिटोरियल के मुताबिक, "अगर पाकिस्तान से तुलना की जाए तो भारत ज्यादा ताकतवर और कामयाब देश है। लेकिन एक और जंग होने पर उसे ज्यादा नुकसान पहुंच सकता है।" हालांकि, एडिटोरियल में यह नहीं बताया गया कि भारत को कैसे ज्यादा नुकसान पहुंचेगा?
कश्मीर का मुद्दा बेहद खतरनाक
न्यूयॉर्क टाइम्स के एडिटोरियल के मुताबिक, भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर बेहद खतरनाक मुद्दा बन गया है। दोनों देशों के बीच लाइन ऑफ कंट्रोल (एलओसी) पर आए दिन फायरिंग हो रही है। वहीं, हाल के महीनों में इसमें बढ़ोत्तरी हुई है। ऐसे में, एक और जंग का खतरा पैदा हो गया है।
मोदी को परख रहा है पाकिस्तान
एडिटोरियल के मुताबिक, पाकिस्तान मोदी को परख रहा है। इसकी वजह यह है कि मोदी ने उनसे पहले पीएम रहे मनमोहन सिंह से अलग रुख अपनाते हुए कहा था कि वे भारत पर पाकिस्तान की तरफ से होने वाले हमलों को बर्दाश्त नहीं करेंगे। पाकिस्तान यह देखना चाहता है कि मोदी क्या कदम उठा सकते हैं। रूस के उफा में मोदी-नवाज शरीफ की मुलाकात के बाद 27 जुलाई को भारत के गुरदासपुर में हमला हो गया था। इसके बाद से रिश्तों में तनाव है। उधर, पाकिस्तान की आर्मी भारत के साथ तनाव बनाए रखने को अपनी ताकत मानती है। दोनों देशों के बीच रिश्ते सुधारने की नेताओं की कोशिशों में पाकिस्तान की आर्मी ने कई बार अड़ंगा भी डाला है।
पाकिस्तान बढ़ा रहा ताकत
इस बीच, गुरुवार को खबर आई है कि पाकिस्तान को जल्‍द ही रूस से चार एमआई-35 अटैक हेलिकॉप्टर की डिलीवरी मिलने जा रही है। इसे लेकर दोनों देशों के बीच जून महीने में ही डील हुई थी। तब पाकिस्तानी आर्मी चीफ जनरल राहिल शरीफ रूस दौरे पर थे। एक डिफेंस अफसर के मुताबिक, यह डील पाकिस्तान को आतंकवाद के खिलाफ लड़ने में मददगार साबित होगी। दोनों देशों के बीच इस डील पर 2014 से बातचीत चल रही थी। इससे पहले नवंबर 2014 में पाकिस्तान और रूस ने सैन्य संबंध बढ़ाने के लिए समझौता किया था।
आगे की स्लाइड्स में इन्फोग्राफिक्स के जरिए जानें, दोनों देशों की एटमी और मिलिट्री ताकत...
पाकिस्तान से एक और युद्ध से भारत को क्षति ज्यादा: NYT
तीन साल पहले पाकिस्तान के पास भारत से 10 न्यूक्लियर बम ज्यादा थे
 
बुलेटिन ऑफ द एटॉमिक साइंटिस्ट ने मार्च में जारी अपनी एक रिपोर्ट में बताया था किन देशों के पास कितने न्यूक्लियर बम हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, पाकिस्तान के पास 110 न्यूक्लियर बम हैं, जबकि भारत के पास 100 बम हैं। हालांकि, ये आंकड़े 2012 की स्थिति के मुताबिक बताए गए थे। तीन साल में हालात कितने बदले हैं, इस बारे में कोई आंकड़ा नहीं है।
 
देश
न्यूक्लियर बम
भारत
90-100
पाकिस्तान
100-110
चीन
250
अमेरिका
7300
रूस
8000
 
लेकिन हमारी फौजी ताकत से नहीं जीत सकता पाकिस्तान
 
  
भारत
पाकिस्तान
एक्टिव फौजी
13.25 लाख
6.17 लाख
फाइटर प्लेन
761
387
हेलिकॉप्टर
584
313
सभी तरह के टैंक
6464
2924
नैवी वॉरशिप
202
74
एयरक्राफ्ट कैरियर
2
0
सबमरीन
15
8
सबसे ताकतवर मिसाइल
अग्नि-5, 5000 किमी रेंज
शाहीन-3, 2750 किमी रेंज
सालाना डिफेंस बजट
2.46 लाख करोड़ रुपए
78 हजार करोड़ रुपए
 
एक अमेरिकी अखबार और किताब में था दावा- 25 साल पहले भारत पर परमाणु हमले की फिराक में था पाक!
 
पूर्व भारतीय डिप्लोमेट राजीव डोगरा की नई किताब में बेनजीर भुट्टो द्वारा परवेज मुशर्रफ को भारत पर हमला करने से रोके जाने का जिक्र है। लेकिन अमेरिकी अखबार ‘द न्यूयॉर्कर’ की एक खबर और थॉमस रीड और डैनी स्टिलमैन की किताब ‘द न्यूक्लियर एक्सप्रेस : ए पॉलिटिकल हिस्ट्री ऑफ बॉम्ब एंड इट्स प्रोलिफरेशन’ में इस बात का जिक्र मिलता है कि 25 साल पहले कुछ महीनों के लिए भारत-पाक के बीच न्यूक्लियर वॉर का संकट मंडरा रहा था।
 
1. कश्मीर में आतंकवाद
1990 में पाकिस्तान स्पॉन्सर्ड टेररिज्म के कारण कश्मीर जल रहा था। तब पाकिस्तान की पीएम रहीं बेनजीर भुट्टो ने पीओके में बयान दिया था कि कश्मीर की आजादी के लिए हम हिंदुस्तान के साथ 1000 साल तक भी जंग लड़ने को तैयार हैं।
 
2. भारत का रिएक्शन
बेनजीर के बयान पर तब प्रधानमंत्री रहे वी.पी. सिंह ने लोकसभा में प्रतिक्रिया दी कि जो लोग हमसे जंग लड़ने की बात करते हैं, उनका एक हजार साल तक क्या वजूद भी रहेगा? कुछ ही दिन बाद सिंह ने श्रीगंगानगर में सेना को संबोधित किया। कहा- "हम पाकिस्तान पर मिलिट्री एक्शन के बारे में सोच रहे हैं।"
 
3. राॅबर्ट गेट्स की सीक्रेट विजिट
भारत-पाक में बढ़ते टेंशन के बीच 21 मई 1990 को अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज एचडब्ल्यू बुश ने अपने नेशनल सिक्युरिटी एडवाइजर रॉबर्ट गेट्स को 2-2 दिन के सीक्रेट भारत-पाकिस्तान दौरे पर भेजा। अमेरिका के इन्वेस्टिगेटिव जर्नलिस्ट सीमोर हर्श ने मार्च 1993 में ‘द न्यूयॉर्कर’ में दी खबर में इसका खुलासा किया। हर्श के मुताबिक, जब भारत ने जम्मू-कश्मीर के अलावा राजस्थान सीमा पर भी आर्मी की तैनाती बढ़ा दी तो पाकिस्तान हड़बड़ा गया। वह भारत पर न्यूक्लियर अटैक की सोचने लगा।
 
4. क्या चीन ने पाकिस्तान के लिए किया था न्यूक्लियर टेस्ट?
भारत तो इंदिरा गांधी के समय एक बार न्यूक्लियर टेस्ट कर चुका था। लेकिन 1990 से पहले अमेरिका को इस पर यकीन नहीं था कि पाकिस्तान के पास न्यूक्लियर बम हैं। लेकिन अमेरिका की खुफिया एजेंसियों ने रिपोर्ट दी कि वह चीन की मदद से एटमी बम बना सकता है। 1990 के संकट के बाद थॉमस रीड और डैनी स्टिलमैन ने अपनी किताब ‘द न्यूक्लियर एक्सप्रेस : ए पॉलिटिकल हिस्ट्री ऑफ बॉम्ब एंड इट्स प्रोलिफरेशन’ में एक और खुलासा किया। किताब में लिखा गया कि चीन ने गेट्स के दौरे से पहले पाकिस्तान के लिए अपने रेगिस्तानी इलाके लॉप नोर में न्यूक्लियर टेस्ट किया था। गेट्स चीन पर दबाव बनाना चाहते थे। इसलिए उन्होंने पाकिस्तान की यात्रा की थी। इसी दबाव के चलते पाकिस्तान ने भी अमेरिका से वादा किया कि वह चीन से न्यूक्लियर बम नहीं लेगा। बुश ने बाद में पाकिस्तान को सारी मदद रोक दी। हालांकि, 1998 में भारत और पाकिस्तान ने अपना-अपना न्यूक्लियर टेस्ट किया था।
पाकिस्तान से एक और युद्ध से भारत को क्षति ज्यादा: NYT
X
पीएम नरेंद्र मोदी और नवाज शरीफ। (फाइल फोटो : 26 मई 2014, जब मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी।)पीएम नरेंद्र मोदी और नवाज शरीफ। (फाइल फोटो : 26 मई 2014, जब मोदी ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी।)
पाकिस्तान से एक और युद्ध से भारत को क्षति ज्यादा: NYT
पाकिस्तान से एक और युद्ध से भारत को क्षति ज्यादा: NYT
COMMENT