पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

12 साल के बालचंद्रन को पहले स्‍नैक्‍स खिलाया फिर मार दी गोली

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कोलंबो. लिबरेशन टाइगर्स आफ तमिल ईलम (लिट्टे) के मुखिया रहे वी प्रभाकरन के बेटे की मौत को लेकर फिर सवाल खड़े हो गए हैं। एक ब्रिटिश चैनल द्वारा तैयार डॉक्यूमेंट्री में दिखाया गया है कि 12 साल के बालचंद्रन प्रभाकरन को पहले स्नैक्स खिलाया गया फिर गोली मारकर उसकी हत्या कर दी गई। हालांकि श्रीलंका सरकार ने इन आरोपों को झूठा करार दिया है।

चैनल 4 टीवी की डाक्यूमेंट्री 'No Fire Zone: The Killing Fields of Sri Lanka' का प्रदर्शन जेनेवा में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद (यूएनएचआरसी) के मार्च में आयोजित होने वाले सेशन में किया जाएगा। डॉक्यूमेंट्री में बालचंद्रन की हत्या से जुड़ी तस्‍वीरें (तस्‍वीरें देखने के लिए आगे के स्‍लाइड पर क्लिक करें) भी दिखाई गई हैं। एक फोटो में दिखाया गया है कि श्रीलंकाई सेना की हिरासत में बालचंद्रन बंकर के ऊपर बैठा है और स्नैक्स खा रहा है। कुछ घंटे बाद ली गई एक अन्य फोटो में दिखाया गया है कि लड़के का शव जमीन पर पड़ा है और उसके सीने पर गोलियां मारी गई हैं। यह फोटो मई, 2009 की हैं। इससे पहले सेना ने कहा था कि बालचंद्रन लिट्टे के प्रभाव वाले क्षेत्र में चलाए गए अभियान के दौरान क्रॉस फायरिंग में मारा गया था।

ये तस्‍वीरें सामने आने से श्रीलंका की सेनाओं के आचरण पर फिर सवाल उठे हैं। साथ ही श्रीलंकाई सरकार की मुश्किलें बढ़ गई हैं क्योंकि अमेरिका यूएनएचआरसी में लिट्टे के खिलाफ युद्ध के दौरान मानवाधिकार के उल्लंघन को लेकर नया प्रस्ताव पेश करने वाला है। भारत में श्रीलंका के उच्‍चायुक्‍त ने कहा है कि श्रीलंकाई सेना ने कभी भी नागरिकों को निशाना नही बनाया। नई तस्‍वीरें यूएनएचआरसी के सेशन से पहले श्रीलंका को शर्मिंदा करने की साजिश का हिस्‍सा हैं।

19 फरवरी की खास खबरें

हां, अन्‍ना की मौत चाहते थे केजरीवाल: अग्निवेश, हजारे पर सौ जीवन कुर्बान: अरविंद

20 साल की हिमाचली एनआरआई से शादी करेंगे 40 साल के जॉन अब्राहम

PHOTOS: एयरपोर्ट से दिनदहाड़े लूट लिए 25 अरब के हीरे

20000 करोड़ की लगेगी चपत: अगले दो दिन किसी बैंक से नहीं निकाल सकेंगे पैसा, ऑटो भी रहेंगे बंद

मिलिए शाही खर्च करने वाली हस्तियों से: खरीदा 3240 करोड़ में पूरा 'शहर', 37 लाख में खाया 1 वक्‍त का खाना

तो क्‍या संन्‍यास के बाद भी एक वनडे खेलेंगे सचिन?

एक वेश्‍या का दर्द: बेटे को तो इंजीनियर बना दिया, पर पूरा नहीं हुआ कोठे से बाहर निकलने का सपना