पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Sharif Feared Army Would Get Him For Kargil Truce

शरीफ को सता रहा है डर, सेना कर सकती है गिरफ्तार

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नवाज शरीफ ने अमेरिका के प्रेसिडेंट बिल क्लिंटन से 1999 में एक संधि की थी। इस संधि में उन्होंने भारत के साथ कारगिल झगड़े को खत्म करने की बात कही थी। लेकिन अब उन्हें यह डर दिन-रात सता रहा है कि पाकिस्तान की सेना उन्हें इस तरह की संधि करने के लिए कहीं पकड़ न ले। शरीफ को अपनी गिरफ्तारी का डर सता रहा है।
शरीफ ने कहा कि उन्हें इस बात पर कोई संदेह नहीं था कि पाकिस्तान की सरकार पर सेना का कब्जा हो जाएगा, फिर भी उन्होंने यह एग्रीमेंट किया। शरीफ ने क्लिंटन से कहा था कि वे लोग मुझे पकड़ लेंगे। क्लिंटन ने शरीफ को समझाते हुए कहा था आपकी सेना काफी दुष्ट है। इस पर शरीफ ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि वो सेना नहीं, सड़ा अंडा है। वो कारगिल की हार के के मामले में हस्तक्षेप जरूर करेंगे।
यह खुलासा मलिक जहूर अहमद के द्वारा किया गया जो अमेरिका की पाकिस्तानी एंबेसी के पूर्व सूचना मंत्री थे।
इस एग्रीमेंट के 3 महीने बाद ही जनरल परवेश मुशर्रफ ने शरीफ की सरकार को बेदखल कर दिया और खुद सत्ता पर काबिज़ हो गए।
अहमद ने कहा कि चार गंदे लोग कारगिल की छानबीन और उसके बाद होने वाले कोर्ट मार्शल से घबराए हुए हैं। यहां पर अहमद ने मुशर्रफ और अन्य तीन जनरलों की तरफ इशारा करते हुए कहा कि ये लोग कारगिल के मास्टरमाइंड थे। इन लोगों ने मिलकर ही लाइन ऑफ कंट्रोल को पार कर कारगिल में पर कब्जा करने की योजना बनाई थी।