Hindi News »India Union Budget 2018» Union Budget 2018: First Union Budget After GST, India Union Budget 2018, आम बजट 2018

आम बजट 2018: जीएसटी के बाद मोदी सरकार का पहला आम बजट, इन चीजों पर रहेगी नजर

1 फरवरी को पेश होने वाला आम बजट जीएसटी के बाद मोदी सरकार पहला बजट है जिसे वित्त मंत्री अरुण जेटली पेश करेंगे।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Jan 10, 2018, 12:26 PM IST

आम बजट 2018: जीएसटी के बाद मोदी सरकार का पहला आम बजट, इन चीजों पर रहेगी नजर

आम बजट 2018-19 1 फरवरी को पेश किया जाएगा। इस बजट को वित्त मंत्री अरुण जेटली पेश करेंगे। यह आम बजट यानि भारतीय यूनियन बजट 2018 कई मायनों में खास है। लेकिन सबसे ज्यादा खास इसलिए है क्योंकि यह जीएसटी के बाद मोदी सरकार का पहला बजट है।

जीसएटी के बाद हर किसी नजर आम बजट 2018 पर

जीएसटी यानि गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (Goods and Services Tax) के लागू होने के बाद रोजमर्रा की कई वस्तुओं पर काफी फर्क पड़ा और उस लिहाज से हर किसी की नजर आने वाले बजट यानि आम बजट 2018-19 पर है।

जीएसटी के बाद ये चीजें हुईं सस्ती- महंगी

जीएसटी 1 जुलाई 2017 को लागू हुआ और उसके बाद जहां कई चीजों से टैक्स हट गया तो कई चीजों (वस्तुओं) का दाम बढ़ गया।

हालांकि इसमें खाने की बुनियादी चीजों जैसे दूध, सब्जी, फल, दवाएं, अंडे, सब्जियां, नमक आदि को जीएसटी से बाहर रखा गया, जबकि खाने का तेल, चाय, कॉफी, ब्रांडेड पनीर, घरेलू उपभोग के लिए एलपीजी जैसी वस्तुओं पर 5 फीसदी टैक्स लगता है।


आम बजट 2018: महिलाओं के लिए खास होगा बजट, मिल सकता है बड़ा फायदा

आम बजट 2018: प्याज-टमाटर के बढ़ते दामों के लिए प्रावधान

वहीं प्याज और टमाटर के दाम अभी भी आसमान छू रहे हैं। दिनोंदिन बढ़ते दामों को लेकर चिंतित किसानों और कृषि क्षेत्र ने पिछले साल दिसंबर में मोदी सरकार और वित्त मंत्री से गुजारिश की थी कि 1 फरवरी को पेश किए जाने वाले आम बजट में प्याज और टमाटर के बढ़ते दामों से निपटने के लिए विशेष परियोजना या प्रावधान लेकर आएं।

आम बजट 2018: बुनियाद की कई चीजें अभी भी महंगी, क्या रेट घटेंगे

अभी भी कई ऐसी वस्तुएं हैं जिन पर लगने वाले ज्यादा टैक्स की वजह से लोग परेशान हैं, खासकर मिडिल क्लास।


आम बजट 2018: बजट से पहले मंत्री खाते हैं हलवा और बेसमेंट में रहते हैं 'कैद', जानिए क्यों

  • रिफाइंड शुगर, कंडेंस्ड मिल्क, साबुन, बालों का तेल, हेलमेट, नोटबुक आदि ऐसी वस्तुएं हैं जिन पर जीएसटी के बाद 18 फीसदी टैक्स लगता है।
  • वहीं साइकिल, ट्रैक्टर, बच्चों के खेल का सामान, एलईडी लाइट जैसी वस्तुओं पर भी टैक्स 12 फीसदी है।
  • कुल मिलाकर देखा जाए तो जिन राज्यों में ये वस्तुएं पहले सस्ती थीं, वहां अब महंगी हैं।

हालांकि जीएसटी लागू होने के बाद कमर्शियल एलपीजी की कीमत घटी है। लेकिन लोगों को आम बजट 2018 से बहुत उम्मीदें हैं। कई वस्तुएं जिनकी कीमतें जीएसटी के बाद उम्मीद से ज्यादा बढ़ी हैं, बजट में उनके लिए क्या प्रावधान है। इसके अलावा जीएसटी के बाद आम बजट पर कितना प्रभाव पड़ेगा और उसकी वजह से लोगों के खुद के बजट और जेब पर कितना असर पड़ेगा...यह सब जानने की उत्सुकता सभी लोगों में रहेगी।


आम बजट 2018: मिडिल क्लास को मिलेगी बड़ी राहत, 10 हजार की टैक्स छूट लिमिट बढ़ेगी


पिछले आम बजट की हाईलाइट्स

हालांकि पिछले आम बजट में मिडिल क्लास के अलावा अन्य वर्ग के लोगों काफी रियायतें दी गईं।

  • महिलाओं की सुरक्षा और विकास के लिए भी पिछले आम बजट में सरकार ने करीब 1.84 करोड़ रुपए का बजट तय किया गया। यहां तक कि सस्ते घर उपलब्ध कराए गए।
  • राशन की बढ़ती कीमतों पर भी लगाम लगाने की कोशिश कर महिलाओं को राहत देने की कोशिश की गई ताकि वो अपना घर चला सकें।
  • पिछले साल का आम बजट कई मायनों में खास रहा था। उस दौरान कई चीजें सस्ती तो कई चीजें महंगी हुईं। इनमें आरओ, लेदर का सामान, सोलर पैनल, बायोगैस, रेल टिकट खरीदना और सस्ता घर देने का प्रयास जैसी चीजें शामिल रहीं, वहीं मोबाइल फोन, तंबाकू, गुटखा, फोन, पान मसाला, सिल्वर फॉयल और स्टील का सामान जैसी चीजें महंगी हो गईं।
  • हालांकि पिछले साल के आम बजट में वित्त मंत्री अरुण जेटली और मोदी की सरकार ने मिडिल क्लास को बड़ी राहत दी थी। मिडिल क्लास को इनकम टैक्स से राहत मिली थी और 2.5 से 5 लाख तक की इनकम टैक्स सीमा 10 परसेंट से घटाकर 5 परसेंट कर दी गई थी।
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: aam bjt 2018: G.S.T. ke baad modi srkar ka phlaa aam bjt, in chijon par rahegai nazar
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From India Union Budget 2018

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×