पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • बोकारो बालीडीह। बोकारोमें फुटपाथ दुकानदारों के लिए बने फेरीवाला कानून

बोकारो/ बालीडीह। बोकारोमें फुटपाथ दुकानदारों के लिए बने फेरीवाला कानून

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बोकारो/ बालीडीह। बोकारोमें फुटपाथ दुकानदारों के लिए बने फेरीवाला कानून लागू नहीं हो सका। इसके प्रति किसी भी जनप्रतिनिधि ने संजीदगी से आवाज नहीं उठायी। अगर आवाज उठाई होती तो कब का यह कानून लागू हो गया होता। इसको लेकर फुटपाथ के दुकानदारों में भारी आक्रोश है। नियम के लागू होने के एक वर्ष बाद भी दुकानदारों के लिए कुछ नहीं हो सका है। दुकानदारों का कहना है कि जब प्रतिनिधि उनके दरवाजे पर वोट मांगने आएंगे तो उनसे सवाल किया जाएगा।

वोटर बोले

अब तक नहीं किया गया है स्थायीकरण

पानकी गुमटी चलाने वाले दुकानदार अजीत कुमार सिंह ने बताया कि आज तक उनकी दुकान का कोई स्थायीकरण नहीं हो सका है।

नहीं हो पाया है दुकान का स्थायीकरण

25साल से फुटपाथ पर दवा की दुकान चला रहे कुर्मीडीह निवासी भूषण प्रसाद ने बताया कि आज तक तो वह जनप्रतिनिधियों से स्थायीकरण का आश्वासन ही सुनते रहे हैं।

स्थायीकरण की आस में जिंदगी गुजारी

बियाडामें फुटपाथ पर चाय बेचने वाले विनय कुमार ने बताया कि वह 15 साल से चाय बेच रहे हैं। कई बार नेताओं ने स्थायीकरण की बात उठायी पर आज तक हुआ कुछ नहीं। इससे मायूसी है।

दुकानदारी में भी परेशानी हो रही

कुर्मीडीहमें इलेक्ट्रानिक पार्ट्स की दुकान चला रहे अखिलेश ने बताया कि आज तक स्थायीकरण नहीं होने के कारण वह सही ढंग से दुकान नहीं चला पा रहे।

28 साल बाद भी नहीं हुआ स्थायीकरण

बियाडाबाजार में फुटपाथ पर 28 साल से राशन की दुकान चलाने वाले केके तिवारी ने कहा कि आज तक बियाडा प्रबंधन ने उनका स्थायीकरण नहीं किया है। जिसकी वजह से आए दिन हटाए जाने का भय बना रहता है।

आज तक नहीं हुआ है स्थायीकरण

होटलदुकानदार रंजीत ने कहा कि आज तक उन्हें स्थायीकरण नहीं किया गया है। कई बार जनप्रतिनिधियों ने उन्हें स्थायीकरण का आश्वासन दिया है।

भय से नहीं चला पा रहे हैं अपनी दुकान

दर्जीका काम करने वाले कुर्मीडीह निवासी एमडी कलाम ने बताया कि आए दिन दुकान हटाने के भय से सही ढंग से वे अपनी दुकानदारी ही नहीं कर पा रहे हैं।

भय का करना पड़ता है सामना

बियाडाबाजार में फुटपाथ दुकानदार देवेंद्र ने बताया कि वह 20 साल से बर्तन की दुकान चला रहे हैं। जनप्रतिनिधियों ने आज तक किसी भी तरह का निदान नहीं निकाला है। भय बना रहता है कि कब उन्हें हटा दिया जाएगा।

फुटपाथ पर बेचते रहे हैं कपड़ा

बियाड