--Advertisement--

डिनर नहीं कर पाए, तो शुरू की कंपनी

शहरके एक रेस्तरांं में बारिश के कारण डिनर नहीं कर पाने की वजह ने शहर के नए स्टार्टअप ग्रेवी कार्ट की कहानी लिख...

Dainik Bhaskar

Feb 02, 2016, 03:05 AM IST
डिनर नहीं कर पाए, तो शुरू की कंपनी
शहरके एक रेस्तरांं में बारिश के कारण डिनर नहीं कर पाने की वजह ने शहर के नए स्टार्टअप ग्रेवी कार्ट की कहानी लिख डाली। एक्सएलआरआई के उद्यमिता कोर्स के छात्र अंकित सिंह और उनके दोस्त नितिन शर्मा ने सपने में भी नहीं सोचा होगा कि बारिश की वजह से डिनर नहीं कर पाने से निकला आइडिया एक नए स्टार्ट अप को जन्म देगा। संस्थान के उद्यमिता विकास केंद्र के चेयरमैन प्रोफेसर प्रबल सेन कहते हैं, जब अंकित ने घर बैठे शहर के मशहूर रेस्तरांं के लजीज व्यंजनों के ऑर्डर की सुविधा देने के लिए नया स्टार्ट अप खोलने का विचार रखा, तो वे तुरंत ही इस आइडिया को स्वीकार कर इसकी मेंटरिंग के लिए तैयार हो गए। बकौल प्रोफेसर सेन, आज शहर में कोई ऐसी व्यवस्था नहीं है कि आप घर बैठे रेस्तरांं या होटल का खाना खा सकें। यह नया स्टार्ट अप लोगों को घर बैठे उनकी मनपसंद रेस्तरांं का खाना पहुंचाएगा। फिलहाल शहर के 15 रेस्तरांं के साथ करार हुआ है।

अंकित सिंह और नितिन शर्मा अभिभावन के साथ।

पूर्वी भारत के 10 शहरों में योजना शुरू करने की तैयारी

प्रोफेसरप्रबल सेन ने कहा कि ग्रेवी कार्ट फूड टेक को पूर्वी भारत के 10 शहरों में शुरू करने की योजना है। विद्यार्थियों की कोशिश रियल टाइम में खाने की डिलीवरी करने की है, ताकि लोगों को इंतजार नहीं करना पड़े। इसके लिए कंपनी तकनीक और ढांचागत संरचना पर निवेश कर रही है।

ऑफिस गोवर्स के लिए लंच भी

ग्रेवीकार्ट के नितिन शर्मा ने बताया कि हमारी योजना जल्द ही ऑफिस जाने वाले लोगों के लिए भी दोपहर का लंच उपलब्ध कराने की है। यही नहीं, हमारी कोशिश जमशेदपुर के अलावा इसके आसपास के क्षेत्र को भी कवर करना है। कोई भी व्यक्ति ग्रेवी कार्ट की साइट पर जाकर ऑनलाइन ऑर्डर कर सकता है।

X
डिनर नहीं कर पाए, तो शुरू की कंपनी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..