बड़ी वारदात की तैयारी में थे बदमाश, लेकिन घर के भेदी ने ढा दी लंका

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

आदित्यपुर। चौका स्थित देना बैंक और झारखंड क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक में लूट की योजना को आदित्यपुर पुलिस ने विफल कर दिया। दोनों बैंक में सोमवार एक साथ लूट-पाट की योजना थी। अपराधियों ने रेकी तक कर ली थी। इसी दौरान गिरोह के एक सदस्य की नाराजगी से योजना का भंडाफोड़ हो गया।

उसने इसकी सूचना रविवार रात पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत माहथा को दे दी। एसपी के निर्देश पर त्वरित गठित टीम ने रात में छापामारी कर आदित्यपुर के मांझीटोला ईंट भट्ठा पर छापा मारा और गिरोह के दो सदस्यों को लोडेड पिस्तौल के साथ धर दबोचा।

पुलिस को यहां छह लोगों के छुपे होने की खबर थी, लेकिन पता चला कि वहां से चार सदस्य अंधेरे का फायदा उठा कर भागने में सफल रहे। पुलिस को चारों अपराधियों की पहचान मिल गई है।

टीम का नेतृत्व आदित्यपुर थाना प्रभारी केएन मिश्रा कर रहे थे। उनके साथ अवर निरीक्षक मनोज कुमार एवं अरविंद शर्मा तथा सशस्त्र बल शामिल थे। एसपी ने टीम के सदस्यों को रिवार्ड देने की घोषणा भी की है।

एसपी श्री माहथा ने बताया कि गिरोह के सदस्य सोनारी निवासी टायो कंपनी के एक ठेकेदार को भी टारगेट पर लिया था। शनिवार को लूटने की योजना थी। वह प्रत्येक शनिवार को अपने कर्मचारियों को करीब सात लाख रुपए पेमेंट करते हैं। एसपी श्री माहथा ने बताया कि बैंक डकैती, व्यवसायियों व कारोबारियों को लुटने से बचाने के लिए जिला पुलिस उपाय कर रही है। बैंक मैनेजर, कारोबारियों, और संवेदकों के साथ बैठक करने का निर्णय लिया गया है।

अंतरराज्यीय गिरोह के हैं सदस्य

पुलिस ने जिन दो अपराधियों को लोडेड पिस्तौल के साथ गिरफ्तार किया है, दोनों अंतर राज्यीय डकैत गिरोह के सदस्य हैं। पश्चिम बंगाल के पुरूलिया जिला अंतर्गत मान बाजार निवासी संजय सरकार उर्फ संजय गोप इस गिरोह का सरगना है। दूसरा अपराधी बिहार के रोहतास जिला के दिनारा थाना निवासी राजीव कुमार उर्फ काजू है।

काजू के पास से लोडेड पिस्तौल, जबकि संजय के पास से जिंदा कारतूस मिला है। संजय पर जीआरपी पुरूलिया थाना में रेल डकैती के मामले दर्ज हैं। साथ ही पूर्वी सिंहभूम के बिरसानगर थाना में रमणी गोप पर बम से हमला करने का आरोप भी दर्ज है। वहीं राजीव कुमार उर्फ काजू पर फिलहाल पुलिस के पास कोई आपराधिक रिकॉर्ड नहीं है। दोनों वर्तमान में आदित्यपुर में ही रह रहे थे।