बालीगुमा लूटकांड का खुलासा, लूट के पैसे से खरीदी थी कार

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

आदित्यपुर/गम्हरिया. 10 दिसंबर को सरायकेला के बालीगुमा में हुई लूट का खुलासा हो गया है। पुलिस ने सोमवार रात चार लुटेरों को गिरफ्तार किया। इनके पास से करीब सवा लाख रुपए मूल्य के जेवरात, बैंक में फिक्स डिपोजिट और जमीन के कागजात आदि जब्त किए गए हैं। यह जानकारी पुलिस अधीक्षक कप्तान इंद्रजीत महथा और एसडीपीओ नरेश कुमार ने मंगलवार को कांड्रा में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में दी। एसपी ने बताया किया लुटेरों ने गणेश कुम्हार के घर से करीब 1.75 लाख रुपए लूटे थे। इसके बाद लूट के पैसे से गैंग लीडर मकसूद उर्फ टाटा बूढ़ा ने पुरानी इंडिगो खरीदी थी। मकसूद पिछले दिनों गालूडीह में हुए गैंगवार में मारा गया और उसकी कार भी लूट ली गई।

घर के भेदी ने कराई थी लूट

पुलिस के अनुसार लूट में शामिल कपाली निवासी मोहम्मद सुलतान और गणेश के पिता कालीपदो कुम्हार के बीच पारिवारिक संबंध था। दोनों साथ में जमीन का कारोबार करते थे।

पिछले दिनों एक अनियंत्रित ट्रक गणेश के घर में घुस गया था। इसके बाद उसे मुआवजे के रूप में एक लाख रुपए मिले थे। इसके अलावा गणेश ने 75 हजार रुपए बैंक से भी निकाले थे, ताकि घर की ढलाई हो सके। इसकी जानकारी सुलतान को थी। उसने ही मकसूद के साथ मिलकर लूट की साजिश रची।

लूट में सात बदमाश थे शामिल

एसपी के अनुसार लूट में सात बदमाश शामिल थे।इसमें गैंग लीडर मकसूद,मो. सुलतान, मो. एबरार अली छोटू अंसारी उर्फ सलीम (तीनों कपाली), इरशाद उर्फ कोका (आजादनगर गरीब नवाज कॉलोनी मानगो), चौड़ा के साधु अंसारी और सूमो चालक शामिल थे। इनमें साधु और चालक अभी फरार हैं।

अभियान में शामिल पुलिसकर्मी

एसडीपीओ नरेश कुमार, आदित्यपुर थाना प्रभारी केएन मिश्रा, सरायकेला प्रभारी बीपी महतो, गम्हरिया प्रभारी मणिभूषण प्रसाद, कांड्रा प्रभारी आनंद मिश्रा, कपाली प्रभारी परवेज आलम, एसआई राजबहादुर सिंह, अरविंद कुमार और टाइगर मोबाइल के दो जवान।