• Hindi News
  • Jharkhand
  • Chakradharpur
  • राज्य के हर जिले में संस्कृत स्कूल खोलने का प्रस्ताव सरकार को भेजेंगे: अशोक षाड़ंगी
--Advertisement--

राज्य के हर जिले में संस्कृत स्कूल खोलने का प्रस्ताव सरकार को भेजेंगे: अशोक षाड़ंगी

Chakradharpur News - राज्यअल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष अशोक षाड़ंगी ने कहा कि सामाजिक प्रतिष्ठा की पुनर्स्थापन एवं उत्थान के लिए सभी...

Dainik Bhaskar

Oct 23, 2017, 02:20 AM IST
राज्य के हर जिले में संस्कृत स्कूल खोलने का प्रस्ताव सरकार को भेजेंगे: अशोक षाड़ंगी
राज्यअल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष अशोक षाड़ंगी ने कहा कि सामाजिक प्रतिष्ठा की पुनर्स्थापन एवं उत्थान के लिए सभी ब्राह्मणों को सांगठनिक रूप से मजबूत होना होगा। ब्राह्मणों के मूल कार्य पूजा-पाठ कराने में भी वर्तमान समय में अवसर कम हो गए हैं। उन्होंने राज्य के प्रत्येक जिला में संस्कृत विद्यालय स्थापित करने और प्रत्येक विद्यालय में संस्कृत की पढ़ाई सुनिश्चित करने के लिए राज्य सरकार को प्रस्ताव देने की बात कही। वे रविवार को सरायकेला के कुदरसाई स्थित बाबा बृहदेश्वर शिव मंदिर प्रांगण में उत्कलीय ब्राहमण समाज के कोल्हान प्रमंडल स्तरीय महासम्मेलन में बोल रहे थे। उत्कलीय ब्राहमण समाज की केंद्रीय समिति के भुवनेश्वर सतपति की अध्यक्षता में आयोजित महासम्मेलन का उदघाटन करते हुए झारखंड राज्य अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष ने कहा कि उड़िया भाषा संस्कृति के उत्थान के लिए उत्कल सम्मेलनी द्वारा प्रमंडल के 175 विद्यालयों में पठन-पाठन का कार्य चलाया जा रहा है। बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित पश्चिमी सिंहभूम के प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश मनोरंजन कवि ने अपने संबोधन में कहा कि ब्राह्मण समाज की उन्नति के लिए प्रत्येक ब्राह्मण को अपने ब्रह्म संस्कारों के साथ-साथ ब्रह्म ज्ञान का होना जरुरी है। उन्होंने आह्वान किया कि सभी ब्राह्मण अपने परिवार के साथ-साथ बच्चों को भी प्रतिदिन वेद और गीता का पाठ कराएं।

ब्राह्मण समाज से एकजुट होने का आह्वान

राज्यअल्पसंख्यक आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष एवं डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष विश्वनाथ रथ ने समाज के सर्वांगीण विकास के लिए समाज के सभी वर्गों को एकत्रित होकर प्रयास करने का आह्वान किया। महासम्मेलन को उत्कल सम्मेलनी जमशेदपुर के रवींद्र मिश्रा, चक्रधरपुर से जयंत कुमार षाड़ंगी, सरायकेला से रमानाथ आचार्य, अतनु कवि, केसी दास, केपी दुबे, पोटका से सनत कुमार पति ने भी संबोधित करते हुए समाज की एकता स्थापित करने का आह्वान किया। महासम्मेलन में सत्य किंकर दास ने स्वागत भाषण दिया। जबकि परिचय सत्र का संचालन मधुसूदन महापात्रा एवं मंच संचालन निर्मल आचार्य ने किया। समापन पर बादल दुबे ने धन्यवाद ज्ञापन किया। सभी अंचलों से आए उत्कलीय ब्राह्मण समाज के प्रबुद्धजनों के साथ आयोजित उक्त महासम्मेलन के सफल आयोजन में समाज के उमाकांत मिश्रा, राजेश मिश्रा, रुपेश मिश्रा, पार्थ सारथी आचार्य, अभिषेक आचार्य एवं देव प्रश्न सारंगी सहित अन्य ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

कार्यक्रम में मौजूद भुवनेश्वर पति, अल्पसंख्यक आयोग के उपाध्यक्ष अन्य।

X
राज्य के हर जिले में संस्कृत स्कूल खोलने का प्रस्ताव सरकार को भेजेंगे: अशोक षाड़ंगी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..