पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • ढाई कट्ठे भूमि पर हो रही थी अफीम की खेती, पुलिस ने किया नष्ट

ढाई कट्ठे भूमि पर हो रही थी अफीम की खेती, पुलिस ने किया नष्ट

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
निकटवर्तीजामताड़ा जिला के बाद अब पालोजोरी में भी अफीम की खेती का मामला सामने आया है। पालोजोरी थाना क्षेत्र के सिमलगढ़ा गांव में लगभग ढाई कट्ठे जमीन पर अफीम की खेती की जा रही थी और पुलिस को इसकी खबर तक नहीं थी। शुक्रवार को पालोजोरी पुलिस को जब गुप्त सूचना मिली, तो थाना प्रभारी बिनेश लाल बीपीआरओ वीरेंद्र राम सदल बल सिमलगढ़ा पहुंचे और अफीम की खेती को नष्ट किया। ग्राम प्रधान सिनंद मरांडी की जमीन पर अफीम की खेती की जा रही थी। ग्राम प्रधान फरारा बताया जाता है। अफीम की खेती का पालोजोरी में यह पहला मामला है।

किसीबड़े गिरोह का हो सकता है हाथ | अफीमके वर्तमान स्थिति को देखकर यह सहज ही समझा जा सकता है कि इस अवैध कार्य को लंबे समय से अंजाम दिया जा रहा था। पुलिस को जो नमूना मिला है, उसमें अफीम के फल में ब्लेड से काटे जाने के निशान है, जो इस बात का संकेत है कि गिरोह द्वारा अफीम को कुछ दिन पूर्व निकाला भी गया है। मामले को लेकर एसडीओ मधुपुर नंदकिशोर लाल ने बताया कि अंचलाधिकारी थाना प्रभारी को आवश्यक कदम उठाने के निर्देश दिए गए हैं।