पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • डीबी स्टार. कतरास सिजुआ

डीबी स्टार. कतरास/सिजुआ

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
डीबी स्टार. कतरास/सिजुआ

रानीबाजार गुरुद्वारा में गुरुनानक देवजी महाराज का पावन प्रकाश वर्ष काफी धूमधाम से मनाया गया। पिछले सात दिनों से निकल रही प्रभात फेरी का समापन हुआ। इसके बाद निशान साहेब का चोला बदला गया तथा भव्य दिवान सजाया गया। दीवान में ज्ञानी करतार सिंह द्वारा गुरुनानक देवजी की जीवनी पर प्रकाश डाला गया। साथ ही उनके बताए रास्ते पर चलने का उपदेश दिया गया। इस अवसर पर बीबी दुर्गा द्वारा शबद गान प्रस्तुत किया गया। इसके बाद अरदास तथा गुरु का लंगर शुरू हुआ। जिसमें सभी समुदाय के लोगों ने भाग लिया। आयोजन को सफल बनाने में हरिभजन सिंह, दर्शन सिंह, इंदर सिंह, सतनाम सिंह, राजू सरदार, चरण सिंह, कुलवंत सिंह, स्वर्ण सिंह, हरजिंदर सिंह, दलजीत सिंह, बलबीर सिंह, सरदूल सिंह, जसपाल सिंह, हरजीत सिंह, कुलदीप सिंह, गुरदीप सिंह, शम्मी सिंह, गुरमित सिंह आदि का योगदान रहा।

सिजुआ: बोलेसो निहाल सत श्री अकाल, वाहे गुरु वाहे गुरु जैसे धार्मिक उद्घोष से पूरा सिजुआ गंूज उठा। माैका था सिखों के प्रथम गुरु गुरुनानक देवजी महाराज के प्रकाशोत्सव पर गुरुवार को टाटा सिजुआ गुरुद्वारा में आयोजित कार्यक्रम का। कार्यक्रम की शुरुआत भव्य नगर कीर्तन के साथ हुई। गाजे बाजे के साथ सिख समुदाय द्वारा निकाला गया नगर कीर्तन गुरुद्वारा से प्रारंभ हुआ टाटा सिजुआ एक नंबर गुरुद्वारा गया। यहां से नगर कीर्तन विभिन्न इलाके का भ्रमण कर भेलाटांड़ पहुंचा जो अंत में गुरुद्वारा में जाकर संपन्न हुआ।



नगर कीर्तन के दौरान सभी आने जाने वाले लोगों को रोक कर प्रसाद दिया जा रहा था। अंत में गुरुद्वारा में विविध कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

नगर कीर्तन में बड़ी संख्या में सिख महिला-पुरुष, युवा और बच्चे शामिल थे। आगे पंज प्यारे हाथों में तलवार और निसान लेकर चल रहे थे। पीछे गुरुग्रंथ साहिब की सवारी थी। महिलाएं ढोलक, झांझर के साथ कीर्तन गाते हुए चल रही थीं। जगह-जगह शर्बत की व्यवस्था की गई थी।



नगर कीर्तन में अमित सिंह, सुरेंद्र सिंह, गुरुप्रीत सिंह, बलबिंदर सिंह, सतबीर सिंह, कुलविंदर कौर, सुखवंती कौर, रूपल कौर, स्मिता कौर, सुरजीत सिंह, सतनाम सिंह, जसपाल सिंह, बीरू सिंह, रंजीत सिंह, दलवीर सिंह, कुलदीप सिंह, दलविंदर सिंह, चरण सिंह आदि शामिल थे।

नगर कीर्तन में ये थे शामिल

कीर्तन गाते हुए चल रही थीं सिख महिलाएं

गुरुनान