पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • ओडीएफ बना काेडरमा प्रखंड, सभी पंचायतों के मुखिया को मिला सम्मान

ओडीएफ बना काेडरमा प्रखंड, सभी पंचायतों के मुखिया को मिला सम्मान

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कोडरमा की 17 पंचायतों को किया गया ओडीएफ घोषित

कोडरमाप्रखंड की 17 पंचायतों के साथ जयनगर, मरकच्चो और चंदवारा की कुल 37 पंचायतें शुक्रवार को पंचायत स्तर पर ओडीएफ घोषित की गई। वहीं शनिवार को डोमचांच प्रखंड की सभी पंचायतें और सतगांवा प्रखंड की 7 पंचायतें ओडीएफ घोषित की जाएंगी। इस प्रकार जिले के दो प्रखंडों को पूरी तरह से खुले में शौच मुक्त घोषित कर दिया जाएगा। वहीं बाकी बचे प्रखंडों की भी कुछ पंचायते ओडीएफ घोषित की जाएगी। कार्यक्रम के दौरान उपायुक्त ने रोको टोको टीम के बीच पोशाक का वितरण किया।

मुखिया को प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित करते उपायुक्त।

भास्कर न्यूज|कोडरमा

जिलाजल एवं स्वच्छता समिति ने शिव वाटिका में शुक्रवार को एक समारोह आयोजित कर कोडरमा प्रखंड को ओडीएफ घोषित किया। मौके पर उपायुक्त संजीव कुमार बेसरा ने कोडरमा प्रखंड को ओडीएफ घोषित करते हुए कहा कि यह स्वच्छता की दिशा में जिले का एक महत्वपूर्ण कदम है। उन्होंने कहा कि शनिवार को डोमचांच प्रखंड को भी ओडीएफ घोषित कर दिया जाएगा। इसके लिए उन्होंने स्वच्छ भारत मिशन की पूरी टीम को बधाई दी। उन्होंने कहा कि जिले में अधिकतर पंचायतों में कार्य लगभग पूरा होने के करीब है

15 अगस्त तक पूरे जिले को ओडीएफ घोषित कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिले में जो पंचायतें ओडीएफ घोषित की जा रही हैं, उन पंचायतों के वेरिफिकेशन का कार्य जिला स्तर पर चल रहा है। उपायुक्त बेसरा ने सभी मुखिया से अपील की कि अब वे ओडीएफ प्लान के लिए तैयारी शुरू कर दें। उन्हाेंने कहा कि यह ध्यान में रखना चाहिए कि कोई भी परिवार शौचालय से वंचित रहे। कार्यक्रम के दौरान उपायुक्त बेसरा ने ओडीएफ होने वाली सभी पंचायतों के मुखिया को पगड़ी, शॉल प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। वहीं उन्होंने ‘एक कदम’ पत्रिका डायरी का भी विमोचन किया गया। जीएसएफ मृत्युंजय चंद्रा ने कहा कि ऐसा नहीं समझा जाए कि ओडीएफ हो जाने के बाद सारी जिम्मेवारियां समाप्त हो गई हैं। बल्कि असल जिम्मेदारी तो अब रही है। शौचालय का निर्माण पूरा हो गया है। इसका शत प्रतिशत उपयोग करने के लिए लोगों को प्रेरित करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि शौच मुक्त प्रखंड जिला बनाने के लिए सभी को सामूहिक प्रयास करने और शौचालय का उपयोग शत प्रतिशत करने की आवश्यकता है, तभी हम स्वच्छ समाज की कल्पना कर सकते है। आभार व्यक्त करते हुए पेयजल एवं स्वच्छता विभाग के कार्यपालक अभियंता सह सदस्य सचिव विनोद कुमार ने कहा कि मुखिया के साथ-साथ जल सहिया पंचायत नोडल पदाधिकारी के सहयोग से आज हम इस मुकाम तक पहुंचे। उन्होंने आगे भी इसी गति से सहयोग करने की अपील की ताकि शीघ्र पूरा जिला ओडीएफ हो सके। स्वागत भाषण देते हुए जिला पंचायती राज पदाधिकारी रवींद्र प्रसाद सिंह ने वित्तीय वर्ष 2015-16 से अब तक हुए शौचालय निर्माण प्रगति से लोगों को अवगत कराया। उन्होंने प्रमुख, बीडीओ, स्वच्छ भारत मिशन के कर्मियों के अलावा मुखिया जल सहिया द्वारा किए गए कार्यो की भूरी भूरी प्रशंसा की। कार्यक्रम की शुरुआत में कस्तूरबा गांधी उच्च विद्यालय की छात्राओं ने स्वागत नृत्य प्रस्तुत कर लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। मौके पर डीएसई प्रबला खेस, जीएसएफ मृत्युंजय चंद्रा, संजय सिंह के अलावा सभी प्रखंडों के प्रमुखों मुखिया, जल सहिया सहित अन्य लोग मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...