पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • काम लटकाने वाले संवेदकों को बदलेंगे : नीलकंठ

काम लटकाने वाले संवेदकों को बदलेंगे : नीलकंठ

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
प्रदेशके ग्रामीण विकास मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा ने परिसदन में विभाग के सचिव तथा मुख्य अभियंता के साथ-साथ प्रमंडल स्तर के विभागीय अधिकारियों और पदाधिकारियों के साथ बैठक कर विकास योजनाओं की स्थिति की जानकारी ली।

मंत्री ने वैसे संवेदकों पर कार्रवाई करते हुए उन्हें हटाने की चेतावनी दी है जो योजनाओं को लटकाने का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि याेजनाओं को पूरा करने में देरी करने वाले संवेदकों को हटाया जाएगा। मंत्री ने इस बात पर चिंता जताई की 2002-2003 से चल रही कई योजनाएं भी अभी तक पूरी नहीं हो सकी है। बैठक में स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी, राधाकृष्ण किशोर, हरेकृष्ण सिंह, बिट्टू सिंह के साथ डीसी अमित कुमार भी शामिल हुए। बैठक के बाद मंत्री ने पत्रकारों से बात करते हुए विकास योजनाओं की स्थिति पर संतोष जताया। मंत्री ने बताया कि कुल मिलाकर प्रमंडल में ग्रामीण विकास द्वारा संचालित योजनाअों की स्थिति संतोषजनक है। गांव में बन रही सड़कों और पुल पुलिया की वर्तमान स्थिति पर चर्चा करने के साथ ही बैठक में उपस्थित विधायक अन्य सदस्यों से स्थिति पर राय भी ली गई।

मंत्री ने बताया कि अधिकारियों को यह निर्देश दिया गया है कि सभी योजनाओं को उनके निर्धारित समय पर ही पूरा किया जाए। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत इन सड़कों को प्राथमिकता के अाधार पर पूरा करने का निर्देश दिया गया है। स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी ने ग्रामीण विकास मंत्री नीलकंठ मुंडा के प्रति इस बात के लिए आभार व्यक्त किया कि उन्होंने प्राथमिकता के आधार पर समीक्षा बैठक के लिए पलामू प्रमंडल को चुना। उन्होंने कहा कि नीलकंठ सिंह मुंडा के नेतृत्व में ग्रामीण विकास के क्षेत्र में बेहतर कार्य हो रहे हैं। इस अवसर पर विभागीय सचिव अविनाश कुमार, भाजपा जिलाध्यक्ष नरेंद्र पांडेय, भाजपा के प्रदेश मंत्री मनोज सिंह मौजूद थे।

प्रमंडल को अभी तक मिला 46 करोड़

ग्रामीणविकास विभाग मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा ने बताया कि राज्य संपोषित योजनाओं के तहत अभी तक पलामू प्रमंडल में 46 करोड़ रुपए की राशि खर्च की जा चुकी है। मार्च से लेकर अभी तक विकास योजनाओं पर 46 करोड़ की राशि खर्च की गई है। आने वाले समय में पलामू प्रमंडल के लिए और अधिक राशि दी जाएगी।

100से 250 आबादी वाले गांव कोर नेटवर्क में

ग्रामीणविकास विभाग के सचिव अविनाश कुमार ने बताया कि सभी गांवों को सड़कों को जोड़ने के उद्देश्य से पूरे राज्य में 1000 योजनाओं की स्वीकृति के लिए केंद्र सरकार को भेजा गया है। नक्सल प्रभावित क्षेत्रों को लक्ष्य करते हुए 250 से अधिक आबादी वाले गांव में योजनाएं शुरू कर दी गई है, जबकि 100 से 250 के बीच की आबादी वाले गांवों को कोर नेटवर्क से जोड़ लिया गया है।

मेदिनीनगर : बैठक करते मंत्री, विधायक, डीसी अन्य।

खबरें और भी हैं...